newsdog Facebook

अर्नोल्ड से कम नहीं यह भारतीय बॉडीबिल्डर

Daily समाचार 2017-08-11 16:56:35

आज हम आपको उस सक्ष के बारे में बताने जा रहे है।जिसने यह साबित कर दिखाया की अगर मन में एक संकल्प लिया जाए तो वह पूरा हो सकता है।

जी हां हम बात कर रहे है दिल्ली के रहने वाले वसीम खान की जिनका जन्म दिल्ली में ही हुआ था।वसीम खान जब 16 साल के थे तो उनका वजन मात्र 49 किलो था।जिस कारण लोग उन्हें पतला-पतला कहकर तंग किया करते थे. उस समय वसीम यह सोच रहे थे की कुछ वजन बढ़ाकर वह थोड़े स्वस्थ दिखने लगे।परन्तु कुदरत को तो कुछ और ही मंजूर था।एक दिन वसीम 1999 में दक्षिणी दिल्ली की तरफ एक बॉडीबिल्डिंग प्रतियोगिता देखने चले गए।

वहां प्रतियोगिता देखने के बाद उनके मन में शरीर को फिट करने के लिए एक सुझाव आया और वह अगले ही दिन जिम में गये और वहां उन्होंने लगे सभी पोस्टरों में से 'अर्नाल्ड' सर के पोस्टर को देखा और उन्होंने यह प्रण लिया की वह खुद को यहां पोस्टर में देखना चाहते है।

तभी से लेकर आज तक उन्होंने भारत में कई स्वर्ण पदक जीते और 2014 में इटली के टोरंटो में बेहतरीन एथलीटों के साथ अपने वर्ग में स्वर्ण पदक जीता।वसीम खान इकलौते भारतीय है जिन्होंने 3 अंतर्राष्ट्रीय ख़िताब जीते है.

Image Copyright: www.google.com