newsdog Facebook

जीपीएस डिवाइस का उपयोग हमारे मस्तिष्क के जीपीएस को बंद कर सकता है

jagat news 2017-08-12 22:16:41

अगर आपने कभी अपने स्मार्टफोन को अपने दूसरे मस्तिष्क के रुप में सोचा है, तो अब ये समानता ज़्यादा दूर नहीं। जी हां, हाल ही में हुए एक नए अध्ययन के मुताबिक जब हम नेविगेशन निर्देशों को फॉलो करते हैं, जैसे कि जीपीएस डिवाइसों द्वारा दिए गए निर्देश तो हमारे वास्तविक दिमाग का वो हिस्सा जो कि नेविगेशन में हमारी मदद करता है वह शांत रहता है यानी की काम नहीं कर पाता।

बता दें कि यूके में स्थित केंट विश्वविद्यालय में बतौर न्यूरोसाइनिस्टिस्ट काम करने वाले (अध्ययन के पहले लेखक) अमीर-होययुन जावड़ी ने बताया कि निष्कर्ष के मुताबिक "आप अपने जीपीएस पर नेविगेशन के काम को नियुक्त करते हैं और केवल निर्देशों का पालन करते हैं, जो कि अभी तक लोगों की मांग है, लेकिन शायद वास्तविक मार्ग योजना के रूप में इसकी मांग नहीं की जा रही है।"  इसका मतलब यह हो सकता है कि समय के साथ-साथ मनुष्य का दिमाग रास्तों को ढ़ूंढने में और भी बदतर होता जाएगा।

 picture from rochakindia

इस बात में कोई दो राहे नहीं कि हमारे मस्तिष्क का आंतरिक जीपीएस सबसे मूल्यवान और आश्चर्यों से भरा है। बता दें कि मस्तिष्क की जिस संरचना में ये कोशिकाएं रहती हैं उन्हे हिप्पोकैम्पस कहा जाता है। बता दें कि कई अध्ययनों से ये पता चला है कि हम हिप्पोकैम्पस के ज़रिए ही चीजों को याद रख पाते है, भविष्य की योजना बना पाते हैं और आमतौर पर अपना रास्ता भी खोज पाते हैं।

21 मार्च को नेचर कम्युनिकेशंस नाम के एक जर्नल में इस अध्ययन को प्रकाशित किया गया जिसमें, शोधकर्ताओं ने इस बात की जांच की कि हमारा मस्तिष्क आखिर कैसे सड़क के नेटवर्क को खोज निकालता है और कैसे उन्हे जोड़करयात्रा की योजना बना लेता है। इस अध्ययन के तहत कुल 24 प्रतिभागियों के मस्तिष्क पर निगरानी रखी जा रही थी जो कि संदन के सोहो क्षेत्र में नेविगेट कर रहे थे। बता दें कि उनके मस्तिष्क की गतिविधियों पर स्कैनर द्वारा लगातार निगरानी रखी जा रही थी।

जिनमें पाया गया कि जो प्रतिभागी खुद से रास्ता ढूंढ़ रहे थे उनके मस्तिष्क में ज़्यादा गतिविधियां हो रही थी उनके मुकाबले जो कि कंप्यूटर व अपने स्मार्टफोन की मदद से रास्तों को खोज रहे थे। इससे पता चलता है कि आने वाली पीढ़ीयों के दिमाग कुछ अलग तरह से विकसित होने वाले हैं।

Image Copyright: rochakindia.com