newsdog Facebook

भगवान मौत दे देना, मगर इस लड़की की जैसी बीमारी किसी को भी नहीं देना

Inkhabar 2017-09-11 23:51:18
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर नई दिल्ली: ऊपर वाला भी लोगो के साथ अजीब तरह के खेल खेलता है, किसी को स्वर्ग से बेहतर जिंदगी मिलने के बाद भी अपनी जिंदगी से प्यार नहीं होता तो कहीं मौत से बदतर जिंदगी के बाद भी कुछ लोग जीने की चाह रखते है.    हम बात कर रहे हैं 16 साल की शालिनी यादव की जिसकी जिंदगी कुछ ऐसी है की उसके मां-बाप भी उसकी मौत की दुआएं मांगते हैं. इस मासूम की दास्तान सुनकर आपकी आंखें भर जाएंगी.  

जी हां, अब हिटलर के उस हाफ पैंट की नीलामी 3 लाख में होगी, जो इस होटल में छूट गयी थी 

आपने सांप को त्वचा छोड़ते तो सुना होगा लेकिन क्या आपने सुना है कि कोई इंसान भी अपनी त्वचा छोड़ाता है. दरअसल 16 साल की शालिनी यादव बचपन से ही Erythroderma नाम की बीमारी से जूझ रही है. मासूम शालिनी की यह तस्वीरें आपके भी दिलों को दहला देंगी.   शालिनी के शरीर की खाल हर 45 दिन के अंदर बदल जाती है. ऐसे में इस मासूम बच्ची को काफी दर्द और तकलीफ का सामना भी करना पड़ता है पर तब भी शालिनी में जीने की चाह और दर्द से लड़ने की शक्ति कम नहीं होती है. मासूम शालिनी के परिवार के आर्थिक हालात इतने खराब हैं कि वो अपनी बेटी के लिए क्रीम तक का इंतजाम भी नहीं कर सकते. शालिनी को हर घंटे बॉडी में नमी बनाए रखने के लिए पानी की ज़रूरत पड़ती है.  

बस में बिना टिकट सफर किया कबूतर, कंडक्टर के खिलाफ नोटिस जारी

शालिनी के लिए तो स्कूल और डॉक्टर दोनों ही अपने-अपने हाथ खड़े कर चुके है. जहां स्कूल ने उसे इस वजह से निकाल दिया क्योंकि उनके अनुसार उससे देखकर स्कूल के बच्चे ड़र जाते हैं तो वहीं डॉक्टर्स के पास तो उसकी बीमारी का इलाज ही नहीं है. हालांकि शालिनी के दो भाई-बहन भी हैं जो कि बिल्कुल नॉर्मल हैं. अपनी बेटी को जिंदगी से यूं लड़ते देख उसके परिवार वाले तक उसके मृत्यु की मांग कर रहे हैं.