newsdog Facebook

शरद यादव, अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खतरे में, मिला नोटिस

Khabar NonStop 2017-09-13 11:16:28

नई दिल्ली। चुनाव आयोग द्वारा जनता दल यूनाइटेड पर नीतीश कुमार का दावा मानने के बाद राज्यसभा सचिवालय ने शरद यादव और अली अनवर को नोटिस जारी कर एक हफ्ते के भीतर जवाब मांगा है। बता दें कि जदयू द्वारा दोनों नेताओं को सदन की सदस्यता से अयोग्य करार देने की मांग की गई है।

बागी तेवरों पर फंसे

बता दें कि नीतीश कुमार द्वारा महागठबंधन से नाता तोड़ने के बाद भाजपा का दामन थामने पर शरद यादव नाराज हो गए थे। इसके बाद उन्होंने बागी तेवर अख्तियार कर लिए और महागठबंधन के साथ संबंध बनाए रखे। पार्टी की चेतावनियों के बाद भी शरद यादव लालू यादव की रैली में भी शामिल हुए। ऐसे में जदयू ने शरद यादव की राज्यसभा सदस्यता को अमान्य करार देने की मांग की।

मोदी सरकार की बड़ी कूटनीतिक जीत, दाऊद इब्राहिम को दिया झटका


लेकिन इसी बीच शरद यादव और अन्य बागी नेता अली अनवर ने चुनाव आयोग में दावा पेश कर कहा कि जदयू पर असली हक उनका है। लेकिन मंगलवार को चुनाव आयोग ने फैसला नीतीश कुमार गुट के समर्थन में सुनाया। ऐसे में शरद यादव की मुश्किलें बढ़ना तय है।

अब खुलेंगे डेरे के कई राज, पुलिस के हाथ लगा बड़ा सुराग

किस आधार पर जाएगी राज्यसभा सदस्यता

बता दें कि जदयू ने शरद यादव को लालू यादव की रैली में शामिल होने पर राज्यसभा सदस्यता से अयोग्य करार देने की मांग की थी। जदयू के महासचिव संजय झा ने कहा कि पहले भी इस तरह की घटना में एक सांसद को राज्यसभा से अयोग्य करार दे दिया गया था। उन्होंने भाजपा सासंद जयप्रसाद निषाद का उदाहरण दिया था, जिन्होंने राजद से हाथ मिला लिया था और उन्हें अपनी राज्यसभा सदस्यता से हाथ धोना पड़ा था।