newsdog Facebook

शरीर की बनावट के हिसाब से ये तय होता है कि किसी व्यक्ति का बॉडी टाइप कैसा है...

Tatkal News 2017-10-11 06:25:00

COURSRTEY DAINIKBHASKAR OCT  11

शरीर की बनावट के हिसाब से ये तय होता है कि किसी व्यक्ति का बॉडी टाइप कैसा है...
सेब, नाशपाती या रेतघड़ी की तरह होता है इंसान का शरीर, जिसका जैसा शरीर, उसकी वैसी सेहत; उल्टे त्रिभुज जैसे शरीर वाले सबसे फिट होते हैं
एजेंसी | टेक्सास


इंसानका शरीर चार तरह का होता है। एप्पल टाइप यानी सेब जैसा, पियर्स टाइप यानी नाशपाती जैसा, आवरग्लास यानी रेतघड़ी जैसा और इनवर्टड ट्राइएंगल यानी उल्टे त्रिभुज जैसा। शरीर की बनावट से उनका ये बॉडी टाइप तय होता है। चारों तरह के शरीर वालों की अपनी-अपनी खासियत हैं। जिस तरह का शरीर, वैसी ही सेहत। इन चारों में से उल्टे त्रिभुज जैसे शरीर वाले लोग सबसे फिट रहते हैं। चारों बॉडी टाइप वालों के बारे में जानते हैं...
इनवर्टड ट्राइएंगल शेप: बीमारियों का खतरा कम
इसबॉडी शेप वाले लोगों का सीना-कंधा चौड़ा होता है और शरीर पर नीचे की ओर आते हुए बॉडी फैट लगातार कम हो जाता है। इस तरह की शारीरिक बनावट इनवर्टड ट्राइएंगल टाइप बॉडी में आती है। ये बॉडी टाइप सबसे सही होता है। शरीर के निचले हिस्से पर कम फैट के चलते बीमारियों का खतरा कम रहता है।
आवरग्लास शेप: हाई बीपी और डायबिटीज का खतरा
चौड़ेकंधे-सीने, शरीर का निचला हिस्सा भी चौड़ा और कमर इनकी तुलना में पतली। ये शारीरिक बनावट कुछ-कुछ रेतघड़ी सी दिखती है। इस तरह के शरीर वाले लोग भी एप्पल टाइप बॉडी जैसे खतरों की जद में रहते हैं। यानी आवरग्लास शेप वाले लोगों को दिल की बीमारी, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज का खतरा ज्यादा रहता है।
एपल शेप: ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारी का खतरा
एपलबॉडी टाइप वालों के कंधे और सीना, कमर की तुलना में कुछ चौड़ा होता है। इनकी शारीरिक बनावट सेब जैसी दिखती है। शरीर के ऊपरी हिस्से पर एक्सट्रा फैट जमा होने से इस बॉडी टाइप वाले लोगों को दिल की बीमारी, हाई ब्लड प्रेशर और टाइप-टू डायबिटीज का खतरा ज्यादा रहता है।
पियर्स शेप: जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है
इसबॉडी टाइप वालों की कमर का हिस्सा कंधे और सीने की तुलना में काफी चौड़ा होता है। ये शारीरिक बनावट नाशपाती जैसी दिखती है। शरीर के निचले हिस्से पर अतिरिक्त फैट जमा होने के कारण ऐसे लोगों के पैरों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता रहता है। इस वजह से इनको जोड़ों की समस्या का खतरा रहता है। ऐसे लोग मोटापे के भी शिकार रहते हैं।