newsdog Facebook

दीपावली पर बचें मिलावटी चीजों से चिकित्सक की सलाह देखें वीडियो

Patrika 2017-10-11 14:44:33

आगरा में बड़े पैमाने पर हो रहा है मिलावटी मिठाईयों का प्रयोग, चिकित्सक की सलाह से मनाएं स्वस्थ्य दीवाली

आगरा। दीपावली के त्योहार पर मिलावट का दौर जोर पकड़ने लगता है। ऐसे में लोगों को बीमारियां घेर लेती हैं या फिर बीमार व्यक्ति की बीमारी और अधिक बढ़ जाती है। ऐसे में जरूरत होती हैं चिकित्सक की। पत्रिका ने अपने सुधी पाठकों के लिए दीपावली पर स्वास्थ्य को सही रखने के लिए चर्चा की रेनबो हॉस्पिटल के सुप्रीडेंट और वरिष्ठ फिजीशियन डॉ.राजीव लोचन शर्मा से। उन्होंने दीपावली पर होने वाले स्वास्थ्य के नुकसान और स्वस्थ्य रहने के लिए टिप्स दिए।

कई दिन चलता है त्योहार, इसलिए बचें इन चीजों से
वरिष्ठ फिजीशियन डॉ.राजीव लोचन शर्मा का कहना है कि दीपावली का त्योहार करीब पांच दिन चलने वाला पर्व है। इस पर्व पर पक्का खाना यानि की पूड़ी, कचौड़ी आदि पकवान ही बनते हैं। ऐसे में डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और कॉलेस्ट्रॉल के मरीजों के लिए ये सबसे हानिकारक होता है। इन बीमारियों के मरीजों को तला, भुना खाना खाने से बचना चाहिए। आज कल बाजार में रिफाइंड और भांति भांति के सरसों के तेल आ गए हैं। हर कोई शुद्धता की गारंटी दे रहा है, लेकिन त्योहारी सीजन में अधिकांश ब्रांडेड तेल और रिफांइड पर मिलावटखोरों की नजर रहती है। मिलावटखोर इनमें अच्छी खासी मिलावट कर देते हैं। वैसे तो सरसों का शुद्ध तेल सबसे अधिक लाभकारी रहता है। लेकिन, मिलावट के इस दौर में तेल की शुद्धता पर सवाल उठते हैं। इसलिए परहेज करें कि तेल का इस्तेमाल कम से कम हो।

मिठाइयों से परहेज करेंगे, तो कई बीमारियों से बचेंगे
डॉ.राजीव लोचन शर्मा का कहना है कि दीपावली पर सबसे अधिक मिठाईयों का खान पान का चलन रहता है। इसमें भी खोए से बनी मिठाईयों को लोग पसंद करते हैं। आजकल खोआ में मिलावटखोर कई तरह की चीजों का इस्तेमाल करते हैं। इसलिए खोआ की मिठाईयों से परहेज करना चाहिए। उनका कहना है कि आगरा का पेठा देश ही नहीं दुनियां भर में मशहूर है। अगर खोआ की जगह पेठा की मिठाईयों का इस्तेमाल किया जाए, तो कई तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है। डॉ.शर्मा का कहना है कि त्योहार पर धीमा जहर अक्सर लोगों को बीमारी के गर्त में धकेल देता है।
हर चीज में हो रही है मिलावट
डॉ.राजीव लोचन शर्मा का कहना है कि मिलावटखोरों ने हर चीज में मिलावट कर रखी है। यहां तक कि फल भी अब चाइना के आने लगे हैं। सब्जियों में भी चाइना के प्रोडेक्ट घर करने लगे हैं। वहीं घरों में इस्तेमाल होने वाले मसालों में भी कई तरीकों की मिलावट की जा रही है।


ये बीमारियां घेरती है मिलावट के खाने से
- पेट की बीमारियां सबसे अधिक होती है, इनमें अल्सर भी हो सकता है।
- फूड प्वाजनिंग के चलते कोई भी शरीर का अंग प्रभावित हो सकता है।
- अधिक मिलावट होने पर आंखों की रोशनी तक जा सकती है।
- मिलावट के चलते किडनी और लीवर पर बुरा असर पड़ता है।
- डायबिटीज, हाईब्लड प्रेशर और कॉलेस्ट्रॉल बढ़ता है।
-दिल के रोगियों के लिए हार्टअटैक का खतरा बढ़ जाता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !