newsdog Facebook

आखिर हम अपना गुस्सा क्यों कंट्रोल नहीं कर पाते हैं, जानिए यहां !

Gyan Hi Gyan 2017-10-12 13:42:06

आखिर हम अपना गुस्सा क्यों कंट्रोल नहीं कर पाते हैं, जानिए यहां !

एक नए अध्ययन से पता चला है कि भाषा को बोलने में,  सामाजिक संपर्क और संवेदी इनपुट से जुड़े मस्तिष्क के क्षेत्रों के बीच कमजोर कनेक्शन के कारण intermittent explosive disorder (IED) या आवेगी आक्रामकता पैदा हो सकती है। जर्नल न्यूरोसाइकोफॉर्मैक्लॉजी पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में पता चला है कि superior longitudinal fasciculus (SLF) जो दिमाग में फैला एक सफेद पदार्थ है इसकी डेंसिटी और अखंडता उन लोगों में कम होती है जिन पर IED का इफेक्ट होता है।


SLF मस्तिष्क के ललाट कोष्ठ को पार्श्वल लोब से जोड़ने का काम करता है। ललाट का लोब निर्णय लेने, भावनाओं और कार्यों के परिणामों को समझने का काम करता है। जबकि पार्श्विक लोब भाषा और संवेदी इनपुट की प्रक्रिया करता है।

अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग MRI के एक फार्म का इस्तेमाल किया है जो मस्तिष्क में श्वेत पदार्थों के संयोजी ऊतक की मात्रा और घनत्व को मापता है। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि स्वस्थ व्यक्तियों से बहुत कम शारीरिक मतभेदों के कारण मनोवैज्ञानिक विकार वाले लोगों में कनेक्टिविटी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

यह हो सकता है कि हम मनोवैज्ञानिक विकारों में बहुत सी समस्याओं को देख सकते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि सामाजिक संपर्क से जुड़े मस्तिष्क क्षेत्रों के बीच संपर्क में कमी आने से लोग बिगड़ा हुआ फैसले ले सकता है, जिससे बदले में क्रोध का अचानक विस्फोट हो सकता है। यह बताता है कि क्रोध वाले लोग सामाजिक परिस्थितियों में लोगों के इरादे को गलत तरीके से समझने की संभावना रखते हैं। ये लोग जल्दबाजी में दूसरों के इरादे के बारे में गलत निष्कर्ष देते हैं और वे एक दूसरे को नुकसान पहुंचा सकते हैं।