newsdog Facebook

यह है क्रिकेट इतिहास का सबसे बदनसीब खिलाड़ी, साथी खिलाड़ियों ने दिया ऐसा धोखा की 299 पर लौटा नॉट आउट

sportzwiki Hindi 2017-10-12 17:19:34

अगर अंतराष्ट्रीय विश्व क्रिकेट में किसी बल्लेबाज के लिए कोई सबसे बड़ी उपलब्धि का पल होता है, तो वह निश्चित तौर पर उस खिलाड़ी के लिए शतक बनाना होता है.

और अगर अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में किसी बल्लेबाज के लिए कोई सबसे बड़ी दु:खदायी चीज होती है, तो वह निश्चित रूप से अपने शतक से मात्र 1 रन चूकना होता है.


कोई भी खिलाड़ी अपने शतक के पास आकर 99, 199 या 299 रन पर आउट नहीं होना चाहता है, लेकिन ना चाहते हुए भी कई बार खिलाड़ी इस बेहद खराब आँकड़े में आउट हो ही जाते है.

अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में एक खिलाड़ी 299 रन 

आपने कई खिलाड़ियों को अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में 99 व 199 रन पर आउट होते हुए देखा होगा, लेकिन शायद आप यह जानते नहीं होंगे, कि अंतराष्ट्रीय क्रिकेट की दुनिया में एक खिलाड़ी ऐसा भी है जो 299 रन के आँकड़े तक पंहुचा, लेकिन वह खिलाड़ी इतना बदनसीब निकला की अपनी टीम के ऑल आउट हो जाने के कारण अपना तिहरा शतक पूरा नहीं कर पाया था.


सर ब्रैडमैन है वो खिलाड़ी 

जिस खिलाड़ी की हम बात कर रहे है, कि वह खिलाड़ी अपनी टीम के आल आउट हो जाने के चलते 299 रन पर नॉट आउट रहे. वह खिलाड़ी और कोई नहीं बल्कि अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट के महान बल्लेबाज कहे जाने वाले सर डॉन ब्रैडमैन है.

सर डॉन ब्रैडमैन ने अपने टेस्ट करियर में दो तिहरें शतक लगाये हुए है और अगर वह इस मैच में भी अपना 1 रन से तिहरा शतक नहीं चुके होते, तो वह विश्व क्रिकेट में तीन तिहरे शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बन जाते.

ये गजब के आँकड़े प्राप्त किये ब्रैडमैन ने 

सर डॉन ब्रैडमैन ने अपने टेस्ट करियर का आगाज 30 नवंबर इंग्लैंड के खिलाफ किया था. सर डॉन ब्रैडमैन ने अपने अंतराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट करियर 52 टेस्ट मैच खेले और इस दौरान उन्होंने 80 पारियों में 99.94 बेमिसाल औसत से 6996 रन बनाये इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 334 रन का रहा व उन्होंने 29 शतक व 13 फिफ्टी भी लगाई.

मात्र 4 रन से चुके थे 100 का औसत पूरा करने के लिए 

आपको बता दे, कि अगर सर डॉन ब्रैडमैन अपने अंतिम मैच पर मात्र 4 रन बना लेते, तो वह क्रिकेट की दुनिया में अपना 100 का औसत कर लेते, लेकिन दुर्भाग्यवश वह अपने अंतिम मैच में शून्य पर आउट हो गये. जिसके चलते उनका औसत 99.94 का ही रह गया. सर डॉन ब्रैडमैन ने अपना अंतिम मैच 14 अगस्त 1948 को इंग्लैंड के खिलाफ खेला था.