newsdog Facebook

खूनी खेल खेलने वाले वामपंथियों का सफाया तय : सुशील मोदी

Eenadu India 2017-10-12 19:01:00

पदयात्रा में शामिल बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी


पटना। वामपंथियों की हिंसा के खिलाफ 15 दिवसीय (03 से 17 अक्तूबर) जनरक्षा पदयात्रा के 10वें दिन केरल के इट्टुमनोर से कोट्टयम तक आयोजित 12 किमी लम्बी पदयात्रा किया गया। इस पदयात्रा में बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी शामिल हुए।


इस मौके पर जनसभा को संबोधित करते हुए बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि हिंसा की बुनियाद पर खड़े वामपंथियों का पूरी दुनिया से सफाया हो चुका है। भारत में भी केवल दो राज्यों त्रिपुरा और केरल में सिमट गए हैं। मोदी ने कहा कि भाजपा व आरएसएस के कार्यकर्ता भी ईंट का जवाब पत्थर से देना जानते हैं, मगर हमारा विश्वास लोकतंत्र में हैं और हम अगले चुनाव में भारत से इनका सफाया कर जवाब देंगे।



उन्होंने कहा कि कम्युनिस्टों का लोकतंत्र में कभी विश्वास नहीं रहा है। इसलिए किसी भी कम्युनिस्ट शासित देश में एकदलीय चुनाव पद्धति को अपनाने के साथ ही नागरिक अधिकारों को छीनने, विरोध प्रदर्शनों पर रोक और अखबारों पर सेंसरशिप आम बात रही हैं।


पद यात्रा में बीजेपी का जनसैलाब

आरएसएस-बीजेपी की बढ़ती ताकत से धबड़ा कर केरल में सरकार संरक्षित हिंसा में भाजपा व सहयोगी संगठनों के 120 कार्यकर्ता मारे जा चुके हैं जिनमें मुख्यमंत्री पी विजयन के गृहजिला कन्नूर में ही हत्या की 84 घटनाएं हुई हैं। इनके खिलाफ विगत 03 अक्तूबर को कन्नूर से ही जनरक्षा पदयात्रा की शुरूआत भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने की थी। आज 10 वें दिन की पदयात्रा में भी 10 हजार से अधिक भाजपा व सहयोगी संगठनों के कार्यकर्ता शामिल हुए।  

सुशील मोदी ने कहा कि बिहार में सीपीएम कभी पनप नहीं पायी मगर जिन थोड़े इलाकों में कम्युनिस्टों का प्रभाव था वहां किसी दूसरे को घुसने नहीं दिया जाता था। मगर बिहार में कभी ताकतवर होने वाली कम्युनिस्ट पार्टी का आज कोई नामलेवा नहीं है। आने वाले दिनों में खूनी खेल खेलने वाले वामपंथियों का केरल से भी सफाया तय हैं।