newsdog Facebook

गडकरी ने कहा, नेवी के लोगों का काम तो बॉर्डर पर है, वे साउथ मुंबई में क्यों रहना चाहते हैं ?

India Samvad 2018-01-11 23:45:45

नया प्रोजेक्ट तैयार होने के बाद 80 की जगह 950 क्रूज आयेंगे हर साल  

नेवी के लोगों का काम बॉर्डर पर है, वे साउथ मुंबई में क्यों रहना चाहते हैं ? नेवी के लोग मकान के लिए मेरे पास आए थे, लेकिन हमने एक इंच जमीन नहीं दी. मेरे पास पैसे की कमी नहीं है, बल्कि काम करने वाले सही नहीं हैं. लोग सरकारी सोच से ऊपर नहीं उठना चाहते हैं.

 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह बात केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारत के पहले अंतर्राष्ट्रीय क्रूज टर्मिनस के समारोह में कही. नितिन गडकरी ने भारतीय नेवी पर नाराजगी जताते हुए कहा कि नेवी ने विकास के कार्यों में रोड़ा बनने  की धारणा बना ली है. गडकरी ने कहा कि इस नए प्रोजेक्ट में हमारे यहां 10 हजार सी प्लेन आ सकते हैं, जिससे टूरिज्म का विकास होगा.

गडकरी ने आगे कहा, नेवी और डिफेंस सरकार नहीं हैं. नेवी के लोगों का काम बॉर्डर पर है, वे साउथ मुंबई में क्यों रहना चाहते हैं?  उन्होंने कहा कि नेवी के लोग मकान के लिए मेरे पास आए थे, लेकिन हमने एक इंच जमीन नहीं दी. समारोह में उन्होंने कहा कि नेवी ने मालाबार हिल में एक फ्लोटिंग होटल का विरोध किया, जबकि उनके पास विरोध का उचित कारण भी नहीं था.


गडकरी ने कहा, सिंगापुर का क्रूज टर्मिनल देखने के बाद मुंबई में टॉप क्लास का टर्मिनल बनाने का ख्याल आया. उन्होंने कहा कि अभी हर साल 80 क्रूज मुंबई में आते हैं. केंद्र सरकार की इस पहल से हर साल 950 क्रूज मुंबई में आएंगे. इससे रोजगार बढ़ेगा. टोटल प्रोजेक्ट की कीमत 6500 करोड़ हैं. इसमें 27 प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है. उन्होंने कहा कि बाहर की एक कंपनी ने सरकार से वादा किया है कि 40 हजार लोगों को इससे रोजगार मिलेगा. पहले सरकारी अफसर काम में अड़ंगा डालते थे, जिससे बाहर के जहाज का आना मुश्किल था. वे सभी हटा दिए गए हैं.