newsdog Facebook

आधी रात को वसूली में जुटे थे सिपाही, सामने आ गए IG, जानें, फिर हुआ क्या

Eenadu India 2018-01-12 09:37:00

आईजी दीपक रतन (फाइल फोटो)।


वाराणसी। शहर में अपराध पर लगाम लगाने की कवायद के तहत रेंज के आईजी दीपक रतन बुधवार देर रात खुद जांच करने निकल पड़े। जिसके बाद उनको कई जगहों पर गड़बड़ी के साथ साथ कुछ सिपाही वसूली भी करते मिले। जिसके बाद आईजी ने 10 सिपाहियों को ड्यूटी में लापरवाही के कारण लाइन हाजिर और दो को निलंबित कर दिया।


आईजी दीपक रतन देर रात अचानक से गश्त और पिकेट ड्यूटी का जायजा लेने निकले थे। जिसमे पुलिस लाईन, राजघाट, भदऊ चुंगी, सुड़िया तिराहे, नारिया तिराहा, सुन्दरपुर तिराहा, सिगरा चौराहा पर लगे  ड्यूटिरत्त सिपाही सतर्क पाए गये।

वहीं आशापुर चौराहे पर पिकेट ड्यूटी में लगे आरक्षी, प्रह्लादघाट पर लगे आरक्षी, हरतीरथ चौराहे पर लगे सिपाही, थाना लंका, मालवीय गेट बीएचयू, तथा सुन्दरपुर चौराहे पर तैनात पुलिसकर्मी अपने कार्यों के प्रति लापरवाह और उदासीन पाए गए।

इस पूरे निरिक्षण में  ककरमत्ता पिकेट पर तैनात सिपाही ट्रकों से अवैध वसूली में लिप्त पाए गये। जिसके बाद आईजी दीपक रतन ने आज देर शाम अपने कार्यालय से आदेश जारी करते हुए 10 सिपाहियों को लाइन हाज़िर और दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया है।

लाईन हाज़िर होने वालों में सारनाथ थाने के आरक्षी विनोद यादव, रामप्रकाश यादव, आदमपुर थाने के आरक्षी विसेंद्र यादव, रामाशीष, थाना कोतवाली के आरक्षी श्रीराम कुमार, चन्द्र प्रकाश एवं लंका थाने के आरक्षी शैलेन्द्र कुमार सिंह, विक्रम सिंह आज़ाद, आशोक कुमार यादव एवं राणा प्रताप सिंह है। जबकि आरक्षी कमल मौर्या और सुमित राय को वसूली में लिप्त पाए जाने के बाद निलंबित कर दिया गया है।