newsdog Facebook

टमाटर ने छीनी किसानों की लाली, डंप करना पड़े हजारों क्विंटल टमाटर

Patrika 2018-03-13 19:53:43

बे-भाव हो गया टमाटर, ट्रालियों में भरकर पशुओं को खिला रहे किसान, जिले में टमाटर की बंपर पैदावार बनी मुसीबत, नहीं मिल रहे खरीदार।

रायसेन। उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देने की सरकार की मंशा यहां साकार तो हो रही है, लेकिन किसान की आय दोगुनी होने की जगह मूल रकम ही डूब रही है। जिले में उद्यानिकी फसल टमाटर की बंपर पैदावार किसानो की मुसीबत के साथ नुकसान का कारण बन गई है। हालात ये हैं कि किसान अपनी टमाटर की उपज ट्रालियों में भरकर नदियों के किनारे, सडक़ किनारे फेक रहे हैं और पशुओं को खिला रहे हैं। जिले की बाड़ी तहसील में सबसे अधिक टमाटर की खेती की जाती है। यहां हर साल टमाटर की बंपर पैदावार होती है, लेकिन इस साल दाम और खरीदार नहीं मिलने से हालात कुछ ज्यादा ही बिगड़ गए हैं। मजबूरीे में किसानों को अपनी उपज फेकना पड़ रहा है। जिससे उन्हे बड़े पैमाने पर नुकसान हो रहा है। यहां तक कि टमाटर की तुड़ाई भी महंगी पड़ रही है।

ये है स्थिति
किसानो का कहना है कि इन दिनो टमाटर की एक कैरिट (३० किलो) की कीमत २० से ३० रुपए मिल रही है। जो बीते साल २०० रुपए थी। जबकि एक कैरिट टमाटर तोडऩे के लिए ३० रुपए मजदूरी लगती है। ऐसे में किसान के हाथ कुछ नहीं लग रहा है। पकी फसल को तोडऩे के लिए ही जेब से मजदूरी देना पड़ रही है।

जिले में ये है स्थिति
उद्यानिकी विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में २७ हजार हेक्टेयर में उद्यानिकी खेती की जाती है। जिसमें से नौ हजार हेक्टेयर में सब्जी की खेती होती है। इस साल ४९०० हेक्टेयर में टमाटर की खेती की गई है। बाड़ी तहसील क्षेत्र में सबसे अधिक टमाटर की खेती की जाती है।

लगभग एक लाख की लागत
किसानो और उद्यानिकी विभाग के अनुसार एक हेक्टेयर में टमाटर की खेती करने में ८० हजार से एक लाख रुपए की लागत आती है। यदि फसल अच्छी हो और समय पर अच्छे दाम मिल जाएं तो एक हेक्टेयर की उपज सवा लाख तक बिकती है। लेकिन इस साल हालात उलट हैं।

10 दिन बाद बढ़ेंगे रेट
उद्यानिकी विभाग के उपसंचालक एनएस तोमर का कहना है कि दूसरे प्रांतों से कई व्यापारी हर साल रायसेन जिले से टमाटर खरीदकर ले जाते थे। लेकिन उन प्रदेशों में भी इस बार टमाटर की अधिक पैदावार हुई है, इसलिए बाहर के व्यापारी नहीं आ रहे हैं। अगले १०-१५ दिन बाद बाहर के व्यापारी आने लगेंगे, तब दाम बढ़ जाएंगे।

सालों से की जा रही अनदेखी
जिले में टमाटर की अच्छी पैदावार सालों से हो रही है। बाड़ी, बरेली तहसील में सबसे अधिक टमाटर पैदा होता है। लेकिन प्रशासन और जनप्रतिनिधियों ने किसानो की मांग के बाद भी जिले काटमाटर बाजार में खपाने या कोई प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने की पहल नहीं की। हालांकि बीते दिनो एक सोसायटी बनाकर प्रोसेसिंग यूनिट खोलने की योजना बनी है, लेकिन इसमें भी एक साल का समय लगेगा।

इनका कहना है
क्षेत्र में टमाटर की बंपर पैदावार हुई है। हमने १२ एकड़ में टमाटर लगाया था। लेकिन अब उसे तोडक़र पशुओं को खिला रहे हैं। कोई खरीदार नहीं मिल रहा है। फसल की लात तो क्या तोडक़र फेकने का खर्च भी नहीं निकल रहा।
कृष्ण कुमार जाट, उद्यानिकी कृषक

बाहर के व्यापारियों के नहीं आने से टमाटर के दाम गिरे हैं। जल्द ही स्थिति सुधर जाएगी। १०-१५ दिन में दाम बढ़ जाएंगे। अगले साल से टमाटर प्रोसेसिंग यूनिट शुरू हो जाएगा। फिर जिले के किसानों को अच्छा लाभ मिलेगा।
नरेंद्र सिंह तोमर, उपसंचालक उद्यानिकी

अपनी कम्युनिटी से वैवाहिक प्रस्ताव पाएं। फोटो और बायोडेटा पसंद आने पर तुरंत वाट्सएप्प / फ़ोन पर बात करें।३,५०,००० मेंबर्स की तरह आज ही familyshaadi.com से जुड़ें।FREE

ऑफलाइन इस्तेमाल करें mobile app - अब आप बिना इंटरनेट के भी mobile app को इस्तेमाल कर सकते हैं। पहले ख़बरों को अपने मोबाइल पर डाउनलोड कर लें जिससे आप बाद में बिना इंटरनेट के भी पढ़ सकते हैं। Android OR iOS