newsdog Facebook

बैंक लूटने या जेल से भागने के लिए नहीं, शराब के ठेके में इसलिए बना दी सुरंग

Eenadu India 2018-04-15 10:00:00
नई दिल्ली/गाजियाबाद। कभी किसी जेल में बनी सुरंग चर्चा में आ जाती है, तो कभी किसी किले में मिली सुरंग लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेती है। लेकिन इस बार मामला थोड़ा अलग है। क्योंकि इस बार सुरंग किसी बैंक के लॉकर में नहीं, बल्कि एक शराब के ठेके में मिली है। सुरंग बनाने का कारण हैरान कर देने वाला है।

देखें वीडियो।


नई दिल्ली/गाजियाबाद। कभी किसी जेल में बनी सुरंग चर्चा में आ जाती है, तो कभी किसी किले में मिली सुरंग लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेती है। लेकिन इस बार मामला थोड़ा अलग है। क्योंकि इस बार सुरंग किसी बैंक के लॉकर में नहीं, बल्कि एक शराब के ठेके में मिली है। सुरंग बनाने का कारण हैरान कर देने वाला है।


गाजियाबाद के साहिबाबाद थाना क्षेत्र में मोहन नगर के एक शराब के ठेके में सुरंग मिली है। यहां पर शराब के ठेके की साइड वाली दीवार में सुरंग बनाई गई है। इस सुरंग का जो उपयोग हो रहा है, वो बेहद हैरान करने वाला है। दरअसल, ड्राई डे हो या फिर रात का वक्त, जब शराब का ठेका बंद हो जाता है, उस समय इस सुरंग में से शराब को बेचने का काम खुफिया तरीके से किया जाता है।

चोरी-चोरी शराब बेचने का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें ये साफ दिखाई दे रहा है कि दुकान का शटर बंद होने के बावजूद सुरंग से शराब बेची जा रही है। मोहन नगर पर रोडवेज बस स्टैंड के पास के शराब के ठेके में शराब देने के लिए दीवार में कुंबल किया गया है। जिससे लोग आसानी से इस सुरंगनुमा कुंबल से शराब खरीद रहे हैं।

वीडियो गाजियाबाद के अधिकारियों को भी भेजा गया है जिस पर गाजियाबाद पुलिस प्रेस सेल ने जांच की बात कही है। योगी सरकार ने अवैध तौर पर शराब बेचने पर रोक लगाई गई थी, लेकिन इसके बावजूद इस तरह से एक ठेके से अवैध रूप से शराब को बेचा जाना कई सवाल खड़े करता है।



बिना पुलिस की मिलीभगत के ऐसा काम मुमकिन नजर नहीं आता है। स्थानीय निवासी सुजीत गिरी का कहना है कि इस तरह से शराब बेचने का काम हर ड्राई डे पर होता है। यही नहीं, रात के वक्त शराब का ठेका बंद होने के बाद भी दीवार में हुए कुंबल के रास्ते शराब बेची जाती है, लेकिन इसको बंद करने के लिए पुलिस कुछ नहीं करती है। ये भी आरोप लगाया जा रहा है कि रात के वक्त सामान्य से ज्यादा रेट पर शराब बेची जाती है। ​