newsdog Facebook

विधायक ने चीनी मिल के मैनेजर को बनाया बंधक, मंत्री का फोन आने के बाद शांत हुआ मामला

Eenadu India 2018-04-15 21:04:00
बस्ती। कप्तानगंज विधानसभा क्षेत्र के विधायक चंद्र प्रकाश शुक्ल ने समर्थकों और ग्रामीणों के साथ देर रात बभनान चीनी मिल के जीएम केएन जीबी सिंह को बंधक बनाकर रानीपुर गांव में दो घंटे तक धरना दिया। बाद में गन्ना मंत्री और मिल के मुख्य महाप्रबंधक से बातचीत के बाद मामला सुलझा और धरना समाप्त किया।

चंद्र प्रकाश शुक्ल, विधायक।


बस्ती। कप्तानगंज विधानसभा क्षेत्र के विधायक चंद्र प्रकाश शुक्ल ने समर्थकों और ग्रामीणों के साथ देर रात बभनान चीनी मिल के जीएम केएन जीबी सिंह को बंधक बनाकर रानीपुर गांव में दो घंटे तक धरना दिया। बाद में गन्ना मंत्री और मिल के मुख्य महाप्रबंधक से बातचीत के बाद मामला सुलझा और धरना समाप्त किया।


विधायक हलुआ बाजार क्षेत्र में एक कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। शाम को क्षेत्रीय किसानों ने उनसे बभनान मिल की ओर से गन्ना पर्ची न दिए जाने की शिकायत की। बताया कि पर्ची न मिलने से खेतों में गन्ना सूख रहा है।

विधायक ने किसानों की शिकायत बताने के लिए जीएम केएन सिंह से बात करनी चाही लेकिन उनका फोन बंद मिला। इसके बाद विधायक ने मुख्य महाप्रबंधक वीके यादव से बात की। फोन पर तल्ख लहजे में जवाब दिए जाने पर विधायक नाराज हो गए और कार्यक्रम स्थल से समर्थकों संग मिल की ओर कूच कर गए। रास्ते में उनकी मुलाकात जीएम केन जीबी सिंह से हो गई।

विधायक समर्थकों ने उनको रोक लिया और साथ लेकर रानीपुर गांव पहुंच गए। यहां बंधक बनाकर दो घंटे तक धरना दिया। विधायक की मांग थी कि मिल के मुख्य महाप्रबंधक आएं और उनसे माफी मांगे।

मामला बढ़ता देख मिल प्रबंधन ने इसको लेकर गन्ना मंत्री सुरेश राणा से बात की। मंत्री ने पहले स्वयं विधायक से फिर मुख्य महाप्रबंधक से भी बात की। इसके बाद धरना समाप्त कर विधायक निकल गए। विधायक की रसूख के बाद मिल के जीएम ने सभी के सामने कई बार हाथ जोड़कर माफी मांगी।

विधायक का कहना है कि बभनान मिल की ओर से कुछ गन्ना माफियाओं को ही पर्ची दी जा रही है। गन्ना किसानों को समानुपातिक तरीके से पर्ची नहीं मिल पा रही है। ऐसे में उनका गन्ना खेतों में सूख रहा है।

वहीं जीएम केएन सिंह ने कहा कि कैलेंडर के अनुसार किसानों को पर्ची का वितरण किया जा रहा है। विधायक और उनके समर्थक की शिकायत दूर कर दी गई है। बभनान मिल मई माह तक चलेगी। खेतों में गन्ना रहने तक मिल चलाई जाएगी। गन्ना पर्ची की भी कोई समस्या नहीं है।