newsdog Facebook

8 साल की आसिफा के कातिलों को पकड़ा गया उसका नाम है.......।।।।

Aryan Techz 2018-04-16 00:20:00

दोस्तों आज हम 8 साल की आसिफा के बारें बताने जा रहे है ।जिसके साथ बहुत ही खौफनाक हादसा हुआ।आसिफा के कातिलों को रत्ती भर रहम नहीं आया कि ये कितनी मासूम बच्ची है।जिसके साथ हम इतना गंद हरकत कर रहे हैं।ऐसे लोगों को तो जिंदा जला देना चाहिए।

आसिफा हमें माफ कर देना , हम तुम्हारे लायक समाज नहीं बना पाए( आठ साल की आसिफा के साथ हुई बर्बर घटना और उसके बाद बलात्कारियों और कातिलों के बचाव में आए तिरंगाधारियों ने देश को शर्मशार किया है . इस घटना ने देश को झकझोड़ दिया है . पूरी घटना के बारे में गांव कनेक्शन में छपी रिपोर्ट को हम यहां साभार पोस्ट कर रहे हैं ताकि पूरा मामला आपकी समझ में आ सके ) 

आसिफा नाम था उसका . 8 साल की मासूम . वो 6 दिन तक भूख से तड़पती रही . नशीली दवाओं से सुन्न पड़ी थी मासूम . कई दिनों तक, कई बार उसे कुछ आदिम प्रजाति के लोगों ने उसे कुचला . फिर पहले दुपट्टे से गला घोंटा, फिर भी दिल नहीं भरा तो सिर पर पत्थर से कई वार किए . यह दिल दहला देने वाली घटना एक धार्मिक स्थल (देवस्थान) पर हुई . बात यही नहीं खत्म होती . गैंगरेप का मास्टरमाइंड उसी धार्मिक स्थल की देखरेख करता है जो की राजस्व अधिकारी रह चुका है. उसने अपने बेटे और भतीजे को इस जघन्य घटना में शामिल किया और धीरे-धीरे पुलिस भी इसमें शामिल हो गई . बात अब भी खत्म नहीं होती . इस पूरे मामले में आरोपियों को बचाने के लिए लोग सामने आ गए हैं और बकायदा एक मोर्चा बन गया है, जो आरोपियों को बचाने के लिए लड़ाई लड़ रहा है . हिन्दूओं के नाम पर बना ये संगठन तिरंगा यात्रा निकालकर मामले को हिन्दू -बनाम मुसलमान बनाने की कोशिश कर रहा है . वकीलों को एक ग्रुप भी आरोपियों को बचाने के लिए सड़क पर उतर चुका है . आठ साल की मासूम के साथ रुंह कंपा देने वाली दरिंदगी के बाद भी आरोपियों के साथ खड़े लोगों का हुजूम देश को शर्मसार कर रहा है .

बलात्कारियों को बचाने वालों के हाथों में तिरंगा

आसिफा से कैसे की गई दरिंदगी ? चार्जशीट में लिखा है रुह कंपाने वाला सच मामला जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले के रसाना गांव का है। क्राइम ब्रांच के मुताबिक, रेप का मुख्य आरोपी मंदिर का केयर टेकर सांजी राम है। उसके साथ उसका बेटा विशाल और नाबालिग भतीजा भी है। अन्य आरोपियों में विशेष पुलिस अफसर (एसपीओ) दीपक खजुरिया और सुरिंदर कुमार, रसाना का ही प्रवेश कुमार (मन्नू), असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर आनंद दत्ता और हेड कांस्टेबल तिलक राज हैं। दत्ता और राज को सबूतों को नष्ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

15 पेज के चार्जशीट के मुताबिक इसमें कठुआ स्थित रासना गांव में देवीस्थान, मंदिर के सेवादार को अपहरण, बलात्कार और हत्या के पीछे मुख्य साजिशकर्ता बताया गया है। सांझी राम के साथ विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजुरिया और सुरेंद्र वर्मा, मित्र परवेश कुमार उर्फ मन्नू, राम का किशोर भतीजा और उसका बेटा विशाल जंगोत्रा उर्फ शम्मा कथित तौर पर शामिल हुए। चार्जशीट के अनुसार जांच अधिकारी (आईओ) हेड कांस्टेबल तिलक राज और उप निरीक्षक आनंद दत्त भी नामजद हैं जिन्होंने राम से कथित तौर पर चार लाख रुपया लिए और अहम सबूत नष्ट किए। सभी आठ लोग गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

आरोपपत्र में कहा गया है कि आसिफ़ा का शव बरामद होने से छह दिन पहले 11 जनवरी को किशोर ने अपने चचेरे भाई जंगोत्रा को फोन किया था और मेरठ से लौटने को कहा था, जहां वह पढ़ाई कर रहा था। दरअसल, उसने उससे कहा कि यदि वह मजा लूटना चाहता है तो आ जाए। आठ वर्षीय आसिफ़ा 10 जनवरी को लापता हो गई थी जब वह जंगल में घोड़ों को चरा रही थी। जांचकर्ताओं ने कहा कि आरोपियों ने घोड़े ढूंढने में मदद करने के बहाने लड़की को अगवा कर लिया। अपनी बच्ची के लापता होने के अगले दिन उसके माता पिता देवीस्थान गए और राम से उसका पता पूछा। जिस पर, उसने बताया कि वह अपने किसी रिश्तेदार के घर गई होगी

बच्ची के पिता मोहम्मद यूसुफ ने 12 जनवरी को हीरानगर थाने में शिकायत दर्ज करवाई। उन्होंने कहा कि उनकी आठ साल की बेटी 10 जनवरी को करीब 12.30 बजे घोड़ों को चराने के लिए नजदीक के जंगल गई थी। दोपहर दो बजे तक उसे घोड़ों के साथ देखा गया। शाम के चार बजे घोड़े तो वापस आ गए, लेकिन वो वापस नहीं लौटी। जब पिता ने शिकायत की तो पुलिस ने केस नंबर 10/2018 के तहत आईपीसी की धारा 363 के तहत केस दर्ज कर लिया।

आसिफ़ा बकरवाल समुदाय से ताल्लुक रखती थी, जो घुमंतू समुदाय है। ये एक मुस्लिम समुदाय है, जो कठुआ में अल्पसंख्यक है। इनका कठुआ में रहने वाले परिवारों से अवैध स्लॉटर हाउस चलाने और फसलों को बर्बाद करने को लेकर लंबे समय से विवाद रहा है। कई बार इनके खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज करवाई जा चुकी है, लेकिन पुलिस कोई सख्त ऐक्शन कभी नहीं ले सकी। इन दो समुदायों के बीच लंबे समय से चल

मेरे प्यारे दोस्तो अगर आप को मेरा ये आर्टिकल पंसद आया हो तो मेरे इस आर्टिकल को Like, Comments शेयर जरूर करें ।ताकि मैं और भी ऐसे ही आर्टिकल आप सबों के लिए लाते रहेगें।इसके लिए आपसबों कोThnks.