newsdog Facebook

रेलवे ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग को लेकर जारी किए नए निर्देश, यात्रियों को आसानी से मिल सकेगा रिजर्वेशन

Eenadu India 2018-04-17 11:17:00

कांसेप्ट इमेज।


जयपुर। रोजाना IRCTC के पोर्टल से 13 लाख से ज्यादा टिकट बुक किए जाते है। वहीं भारतीय रेलवे से रोजाना दो करोड़ से अधिक लोग सफर करते हैं। बड़ी संख्या में लोगों के टिकट बुक कराने की इस प्रणाली के चलते कई लोग इस सेवा का दुरूपयोग भी करते है।


सभी यात्रियों के बेहतर सफर और सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग के संबंध में नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, ताकि सभी को आसानी से रिजर्वेशन मिल पाए।

  • अब एक यूजर एक महीने में सिर्फ 6 टिकट बुक करा सकता है। लेकिन आधार कार्ड से सत्यापन के बाद एक महीने में 12 टिकट बुक किए जा सकते है। वहीं एक व्यक्ति सुबह 8 से 10 बजे के बीच के शुरुआती दो घंटों में सिर्फ दो टिकट ही बुक करा सकता है।
  • एक यूजर एक बार में सिर्फ एक लॉग-इन सेशन में टिकट बुक कर सकता है। लॉगिन, यात्री विवरण और पेमेंट वेब पेज पर कैपचा मौजूद होगा।
  • सुबह 8 बजे से दिन में 12 बजे तक सिंगल पेज या क्विक बुक सर्विस मौजूद नहीं होगी। इस सुविधा के तहत एक ही पेज पर टिकट बुकिंग की सारी प्रक्रिया पूरी की जाती है।
  • सुरक्षा को अधिक पुख्ता करते हुए अब किसी भी यूजर को अपना नाम, ईमेल, मोबाइल नंबर जैसी निजी जानकारी भरने के बाद सुरक्षा संबंधी एक सवाल का जवाब देना होगा।
  • अधिकृत ट्रेवल एजेंट ऑनलाइन रिजर्वेशन खुलने के आधे घंटे तक तत्काल टिकट बुक नहीं कर सकते हैं। वहीं एजेंट सुबह 8 से 8:30 बजे, 10 से 10:30 बजे और 11 से 11:30 बजे तक टिकट बुक करा सकते हैं।
  • ऑनलाइन टिकट बुकिंग में यात्री विवरण भरने के लिए 25 सेकंड का मानक समय तय किया गया है। यात्री विवरण पेज और पेमेंट पेज पर कैपचा लिखने के लिए न्यूनतम समय पांच सेकंड होगा।
  • पेमेंट करने के लिए 10 सेकंड का समय तय किया गया गया है। वहीं नेट बैकिंग के लिए OTP (वन टाइम पासवर्ड) देना अनिवार्य होगा।
  • यात्रा के एक दिन पहले तत्काल टिकट बुक किया जा सकेगा। सुबह 10 बजे से एसी कोच में और 11 बजे से स्लीपर बोगी में रिजर्वेशन शुरू होगा।

     

  • अगर ट्रेन अपने निर्धारित समय से तीन घंटे की देरी से रवाना होगी तभी टिकट शुल्क और तत्काल शुल्क को वापस मांगा जा सकेगा।
  • कोई भी यात्री अपने टिकट की कीमत वापसी का क्लेम तभी कर सकता है, जब ट्रेन का रूट बदल दिया गया हो और यात्री उस रूट से यात्रा नहीं करना चाहता हो।
  • -यदि यात्री को उसके द्वारा बुक की गई क्लास से नीचे की क्लास में शिफ्ट किया जाता है, लेकिन यात्री सफर नहीं करना चाहता तो उसे टिकट का पूरा पैसा वापस कर दिया जाएगा। लेकिन अगर यात्रि सफर करने को राजी हो जाता है तो दोनों क्लास के टिकट में फर्क का भुगतान कर दिया जाएगा।