newsdog Facebook

बहुत खतरनाक है इन राज्यों के लिए अगले 72 घंटे, मौसम विभाग ने जारी की भारी बारिश की चेतावनी

rashifal 2018-08-05 20:39:52

उत्तर भारत के कई राज्यों और खास कर उत्तराखंड में इन दिनों बारिश का कहर टुटा हुआ है. पहाड़ों से लेकर मैदानी भागों तक में लगातार मानसूनी बारिश लोगों पर आफत बनकर टूट रही है. भारी बारिश के कारण कई नदियाँ खतरे के निशान से ऊपर बह रही है तो कहीं पर बाढ़ ने उत्पात मचाया हुआ है. उत्तराखंड में जगह-जगह पर भूस्खलन होने के कारण आवागमन बाधित हो गया है. राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने के कारण चार धाम यात्रा पर भी असर पड़ रहा है.

Third party image reference

मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में शाम या रात को हल्की बारिश होने की संभावना है. नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा और कोंकण और गोवा में भी मानसून का मिजाज ठीक नहीं है. यहां भी आज भारी बारिश की आसार हैं. ऐसे में मौसम वैज्ञानिकों ने मछुआरों को चेतावनी दी है कि वे सागर के किनारे और गुजरात तट पर न जाएं. वहीँ, मौसम विभाग ने कहा है की हरियाणा, पंजाब और पश्चिमी राजस्थान के कुछ इलाकों में 6 अगस्त से मौसम बदलने के आसार है और हलकी से मध्यम बारिश हो सकती है.

Third party image reference

मौसम विभाग ने उत्तराखंड के सात जिलों के लिए चेतावनी जारी करते हुए कहा है की इन जिलों में अगले 72 घंटों में भारी बारिश हो सकती है. मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए प्रशासन भी अलर्ट पर है. विभाग के अनुसार सबसे अधिक खतरे में हरिद्वार, पौड़ी, चमौली, देहरादून, पिथौरागढ़, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर में अगले 72 घंटों में भारी बारिश हो सकती है. मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों को अलर्ट पर रखा गया है.

Third party image reference

गौरतलब है की भारी बारिश ने पिछले कुछ दिनों से उत्तराखंड के जनजीवन को बुरी तरह से प्रभावित किया हुआ है. केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के रास्तों पर बारिश के कारण जगह-जगह भूस्खलन होने से आवागमन बाधित हो गया है. पहाड़ी इलाकों के अलावा मैदानी भू-भाग पर भी बारिश के कारण भारी क्षति हुई है. कुछ इलाकों में बादल फटने की घटनाएँ भी हुई जिससे भारी तबाही हुई है. सरकार ने भारी बारिश के अलर्ट और कांवड़ मेले को ध्यान में रखकर बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की है ताकि किसी भी आपातकाल की स्थिति से निपटा जा सके.