newsdog Facebook

अब गाड़ी के कागज साथ लेकर चलना जरूरी नहीं, परिवहन विभाग ने बनाये नये नियम

Patrika 2018-08-07 08:48:13

लखनऊ. 15 अगस्त से गाड़ी के कागजात साथ लेकर चलना जरूरी नहीं है। राजधानी ही नहीं प्रदेशभर के तीन करोड़ गाड़ी मालिकों के लिए यह खबर बहुत अच्छी है। अब आपको 15 अगस्त से गाड़ी के पेपरर्स साथ लेकर चलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इन कागजों को मोबाइल पर फोटो दिखाने से भी काम चल सकता है। कागजातों को अपने डिजिटल लॉकर या फिर एम परिवहन एप पर रखना होगा। 15 अगस्त के बाद से राजधानी में लोगों को वाहन के पेपर हर वक्त साथ रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

ट्रैफिक पुलिस, पुलिस और प्रवर्तन दस्ते इसके लिए अब ऑनलाइन पेपरों की जांच कर सकेंगे। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर परिवहन विभाग प्रदेशवासियों को ढेरों सौगात देने जा रहा है। बताते हैं कि भारत सरकार ने जनता को राहत देने के लिए कई नए नियमों में बदलाव किया है। इन मामलों को लेकर सरकारी गजट भी जारी किया गया है। गजट के अनुसार प्रदेश सरकार 15 अगस्त तक शासनादेश जारी कर देगी। इससे बड़ी संख्या में गाड़ी मालिकों को राहत मिलेगी।

इस मामले में आरटीओ संजय नाथ झा का कहना है कि सड़क परिवहन मंत्रालय समय समय पर गाड़ी मालिकों को राहत देने के लिए नियमावली में बदलाव करता है। इसी क्रम में बीते 12 जुलाई को सरकारी गजट जारी किया गया है। उसमें नए नियमों को लाया गया है जिसे 15 अगस्त तक शासनादेश बनाकर लागू करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। इसी क्रम में नई व्यवस्था लागू करने की तैयारी है।

गाड़ी मालिकों को मिलेगी यह सुविधाएं

- गाड़ी के पेपर गाड़ी में रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

- नए वाहनों पर फिटनेस की अनिवार्यता खत्म।

- प्रदेश में कहीं से भी गाड़ी की फिटनेस कराएं।

- नई गाड़ी का फिटनेस हर 2 वर्ष बाद होगा।

- ट्रकों पर फास्ट ट्रैक लगाना अनिवार्य होगा।

- गाड़ियों में फिटनेस देरी पर हर दिन ₹50 जुर्माने का प्रावधान होगा।

- फार्म 38 ए भरकर किसी भी कार्यालय में करा सकेंगे फिटनेस