newsdog Facebook

जरा सी अनदेखी पड़ न जाए महंगी, देखें तस्वीरें

Patrika 2018-08-07 10:37:41

जयपुर. श्रावण मास में पवित्र स्थलों के जल से भोलनाथ का जलाभिषेक करने की चर्चा हो तो गलता तीर्थ का नाम सबसे ऊपर आता है। छोटी काशी में भोले के भक्त शाम को ही गलता तीर्थ पहुंच जाते हैं। रात को वहां के पवित्र कुण्ड से जलभरकर कांवड लेकर पैदल अपने आराध्य के स्थल तक आते हैं और जलाभिषेक करते हैं। प्रतिदिन हजारों श्रद्धालुओं की आवाजाही यहां होती है। इतनी संख्या में लोगों के आने के बावजूद यहां सुरक्षा के इंतजाम को लेकर प्रशासन अलर्ट नहीं है। रात्रि में कुण्ड में स्नान करने और जल भरने के दौरान कई हादसे हो चुके हैं। कई युवा भी जोश-जोश में कुण्ड में कूद-कूदकर स्नान करते देखे जा सकते है, लेकिन इन्हें रोकने-टोकने वाला वहां कोई नहीं है।
फोटो : दिनेश डाबी