newsdog Facebook

इंडोनेशिया: तंत्र मंत्र का झांसा देकर बुजुर्ग 15 सालों तक लड़की से करता रहा रेप, पुलिस ने दर्ज किया मामला

Patrika 2018-08-08 07:53:02

जकार्ता। इंडोनेशिया से रेप का एक हैरतअंगेज मामला सामने आया है। इंडोनेशिया के एक गांव में एक बुजुर्ग व्यक्ति ने अपनी शरीर में युवक की आत्मा के प्रवेश होने का बहाना कर 15 सालों तक एक लड़की का यौन शोषण किया। यह व्यक्ति लड़की के साथ तब से रेप कर रहा था, जब वह महज 12 साल की थी। पुलिस ने मंगलवार को इस सनसनीखेज घटना में एफआईआर दर्ज किया है।

वेनेजुएलाः राष्ट्रपति मादुरो पर हमले में बड़ी कार्रवाई, दो ड्रोन पायलट गिरफ्तार

महिला को छुड़ाया गया आरोपी के चंगुल से

पुलिस के एक प्रवक्ता ने मीडिया को बताया कि महिला को रविवार को इंडोनेशिया के सुलावेसी प्रांत के तोलीतोली इलाके से बचाया गया है। पुलिस के अनुसार उसे इस बात की ख़ुफ़िया जानकारी मिली थी कि तोलतोली के जंगल में एक युवती संदिग्ध हालत में देखी गई है।पुलिस ने बाजुगन गांव के नजदीक जंगल में रेड डालकर युवती को बरामद कर लिया। बताया जा रहा है कि 2003 में लापता होने के बाद से यह युवती यहीं रह रही थी। आरोपी बुजुर्ग को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।उसने माना है कि वह 2008 से लड़की के साथ शारीरिक संबंध बना रहा है।

क्या है मामला

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 83 साल के एक बुजुर्ग ने आमरीन नाम की लड़की को उसके बॉयफ्रेंड की फोटो दिखाई। बुजुर्ग ने लड़की को यह भरोसा दिया कि उसके प्रेमी की आत्मा बुजुर्ग के शरीर में प्रवेश कर गई है।इसके बाद वह लड़की से संबंध बाने में कामयाब रहा और 15 सालों तक उसके साथ रेप करता रहा। इस बीच वह लड़की को भरोसा दिलाता रहा कि वह अपने प्रेमी से संबंध बना रही है, लेकिन वास्तव में वह बुजुर्ग अपनी हवस को पूरा कर रहा था ।

नवाज शरीफ की बढ़ी मुश्किलें, पीएमएल-एन से 'एन' को हटाने के लिए कोर्ट में याचिका

परिवार का परिचित था बुजुर्ग

पुलिस ने बताया है कि बुजुर्ग लड़की के परिवार का पूर्व परिचित था। वह लड़की के घर आता-जाता था। उस बुजुर्ग ने लड़की के लापता होने पर उसके माता-पिता से कहा था कि वह काम करने के लिए जकार्ता चली गई है। अब पुलस ने आरोपी के खिलाफ, बाल यौन शोषण, अनधिकृत यौन सम्बन्ध, रेप, अपहरण आदि की धाराएं लगाई हैं। आरोपी के खिलाफ इंडोनेशिया के बाल सुरक्षा कानून के तहत केस दर्ज किया गया। आरोपी साबित होने पर उसे 15 साल की सजा सुनाई जाएगी।