newsdog Facebook

कड़ी मेहनत और सकारात्मक सोच जरूरी

Patrika 2018-08-10 17:42:20

चेन्नई. अग्रवाल विद्यालय में अंतर विद्यालयी सांस्कृतिक प्रतियोगिता आयोजित की गई जिसमें 20 विद्यालयों ने भाग लिया। प्रतियोगिता का उद्घाटन मुख्य अतिथि गायिका कुमारी सौंदर्या बाल नंदकुमार ने विशिष्ट अतिथि लोयला ड्रीम टीम के निर्देशक रेमण्ड चेलेन की उपस्थिति में किया।
प्रधानाचार्य ने स्वागत भाषण दिया। सांस्कृतिक सचिव शालिनी अग्रवाल ने कहा कि पढ़ाई के साथ समावेशी विकास भी अत्यावश्यक है। मुख्य अतिथि ने कहा आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए स्वप्न के साथ कड़ी मेहनत एवं सकारात्मक सोच का जरूरी है। इस अवसर पर कई प्रतियोगिताएं आयोजित की गई जिनमें विजेताओं को पुरस्कार दिए गए। बृजलाल चौधरी रोलिंग ट्राफी तेरापंथ विद्यालय को दी गई। समारोह में विद्यालय के सचिव मुरारीलाल सौंथलिया, सांस्कृतिक सचिव शालिनी अग्रवाल, समिति सदस्य मोहनलाल बगडिय़ा, प्रधानाचार्य डा. आर. चाल्र्स, समेत अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

..........................................

 

तमिलनाडु केंद्रीय विवि के हिंदी विभाग में अतिथि व्याख्यान

तिरुवारूर. तमिलनाडु केंद्रीय विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में हाल ही अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया जिसमें महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के पूर्व प्रति कुलपति प्रो. ए. अरविंदाक्षन, वर्धा व डॉ. घनश्याम प्रधानाचार्य राजकीय महिला स्नातक महाविद्यालय, नलगोंडा ने विभाग के विद्यार्थियों एवं शोधार्थियों के समक्ष अपने विचार प्रस्तुत किए।
इस अवसर पर प्रो. ए. अरविंदाक्षन ने सिनेमा और साहित्य के अंतर्संबंधों की बारीकियों से छात्रों को अवगत कराया। डॉ. घनश्याम ने शिक्षा को जीवन में उसकी उपयोगिता के आधार पर अपनाने पर बल दिया। उन्होंने वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में रोजगार के अवसरों के बारे में भी विद्यार्थियों का मार्गदर्शन किया। उन्होंने साथ ही ज्योतिष शास्त्र और दर्शन शास्त्र के माध्यम से हिंदी साहित्य की एक नई व्याख्या प्रस्तुत की।
उन्होंने कविताओं के माध्यम से बताया कि भारतीय साहित्य में आदि काल से ही वर्तमान समय की समस्याओं एवं उनके कारणों का उल्लेख मिलता है। इन कविताओं को जीवन में अपनाकर समस्याओं का समाधान खोजा जा सकता है। हिंदी के विभागाध्यक्ष प्रो. एस.वी.एस.एस. नारायण राजू ने अध्यक्षीय वक्तव्य दिया जबकि प्राध्यापक आनंद पाटिल ने अतिथियों का परिचय दिया। व्याख्यान में हिंदी विभाग के एम.ए., पीएच.डी. के छात्र-छात्राओं के साथ अन्य विभाग के हिंदी प्रेमी छात्रों ने भी भाग लिया। प्राध्यापिका मधुलिका बेन पटेल में धन्यवाद ज्ञापन किया।