newsdog Facebook

कांग्रेस का तेलंगाना में गटबंधन हुआ फाइनल ,ये चार पार्टी मिलकर लड़ेगी चुनाव.

vbkalpesh 2018-09-13 13:11:28


कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर पर बीजीपी के खिलाफ़ महागठबंधन बनाने में जुटी है. जिसमे कुछ पार्टियां सहमती दिखा रही हैं और कुछ मुश्किलें भी खड़ी कर रही हैं. भाजपा के खिलाफ़ कांग्रेस महागठबंधन बनाने में कितना सफ़ल हो सकेगी यह समय बतायेगा. लेकिन तेलंगाना राज्य में कांग्रेस यह काम कुशलता से कर लिया है. तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने लंगाना विधानसभा भंग कर विपक्ष को चौकाने की पूरी कोशिश की. लेकिन उनकी इस कोशिश पर अब पूरी तरह पानी फिरता नज़र आ रहा है.

1- क्या है पूरा मामला

मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने अपने समय से 8 महीने पूर्व ही तेलंगाना विधानसभा को भंग कर दिया. इसके पीछे माना अजा रहा है कि उनका मकसद विपक्ष को कोई भी चुनावी योजना बनाने का मौका न देना. पर विधानसभा के भंग होते ही एक सप्ताह के भीतर कांग्रेस ने महागठबंधन खड़ा कर दिया. कांग्रेस के इस महागठबंधन में तेलगू देशम पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और तेलंगाना जन समिति पार्टी शामिल हैं. सभी शुरआती सहमतियों के बाद महागठबंधन में आपसी सीटों के बटवारे पर बात चल रही है. खबरों के अनुसार बहुत जल्द तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) दक्षिण भारतीय राज्य तेलंगाना की क्षेत्रीय राजनीतिक पार्टी है जो वर्तमान में तेलंगाना राज्य में सरकार चला रही है. के॰ चंद्रशेखर राव पार्टी के अध्यक्ष और राज्य के पहले और वर्तमान मुख्यमंत्री है.

2- के चंद्रशेखर राव के पास अभी आठ महीनो का समय और था सरकार चलाने का.

तेलंगाना राष्ट्र समिति ( टीआरएस) के अनुसार उनके लिए अभी तक कांग्रेस ही मुख्य चुनौती थी. ऐसे में के. चंद्रशेखर राव और उनकी पार्टी टीआरएस के लिए यह महागठबंधन ज़रूर मुश्किलें खड़ी करेगा.कांग्रेस नेताओं का मानना है कि तेलंगाना में बने इस महागठबंधन के सकारात्मक नतीजे देखने को मिलेंगे. वहीँ माकपा ने इस महागठबंधन से पूरी तरह बाहर रहने का फैसला किया है. माकपा कुछ संगठनो के साथ मिल कर अलग चुनाव लड़ेगी.

3- तेलंगाना के दौरे पर जाएंगे अमित शाह

15 सितंबर को अमित शाह तेलंगाना का दौरा करेंगे. माना जा रहा है अमित शाह के इस दौरे के साथ ही भाजपा राज्य में चुनाव प्रचार शुरू करेगी. आपकी जानकारी लिए बता दें इससे पहले तेलंगाना राज्य के मख्यमंत्री के तौर पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन ( एआईएमआईएम )के विधयाक दल के नेता अकबरउद्दीन ओवैसी को भी राज्य का अगला भावी मुख्यमंत्री के तौर पर देखा जा रहा है.

4- तेलंगाना में ओवैसी की लोकप्रियता ज्यादा

एआईएमआईएम के विधायक दल के नेता अकबर ओवैसी ने विधान सभा में दिए अपने ब्यान के दौरान कहा था कि “अगर कर्नाटक में एचडी कुमार स्वामी सीएम बन सकते हैं तो तेलंगाना में हम क्यों नही” गौर तलब है की मजलिस का कद दिन प्रति दिन बढ़ रहा है, आन्ध्रा और तेलंगाना की राजनीति को ओवैसी से अलग हटा कर नही देखा जा सकता.