newsdog Facebook

बेंगलूरु में होगा एलइडी रोशनी वाला देश का पहला रनवे

Patrika 2018-09-13 23:34:49

बेंगलूरु. केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (केआइए) के दूसरे रनवे का निर्माण कार्य २०१९ में पूरा होने की उम्मीद है और यह रनवे पूरी तरह से एलइडी ऊर्चा से संचालित होगा। केआइए देश का तीसरा सर्वाधिक व्यस्ततम हवाई अड्डा है और एलइडी तकनीक युक्त रनवे वाला देश का पहला हवाई अड्डा होगा।
एडीबी सेफगेट सेफ एलइडी एयरफीलड लाइटिंग (एजीएल) द्वारा केआइए के दूसरे रनवे पर विशेष एलइडी रोशनी प्रणाली स्थापित की जाएगी।
बेंगलूरु अतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (बीआइएएल) के मुख्य परियोजना अधिकारी टॉम शिम्मिन ने कहा कि चूंकि केआइए हवाई अड्डा अपने दूसरे रनवे पर प्रति घंटे 55 एयर ट्रैफिक मूवमेंट (एटीएम) को संचालित करने की तैयारी में है इसलिए सुरक्षित और कुशल संचालन सुनिश्चित करना सर्वोपरि है। ऐसे में उड़ान संचालन की सुरक्षा और दक्षता पर हमारा सर्वाधिक ध्यान है। इसमें हम किसी प्रकार की त्रुटि नहीं रख सकते हैं। हमारा मानना है कि एडीबी सेफगेट की एलइडी एयरफील्ड रोशनी हमें प्रदर्शन, लागत और ऊर्जा लाभ के साथ एटीएम संचालन और रखरखाव में सहायता प्रदान करेगी। इससे समग्र सुरक्षा और दक्षता का फायदा होगा।
एडीबी सेफगेट एजीएल के डिजाइन और आपूर्ति के साथ-साथ उन्नत विजुअल डॉकिंग गाइडेंस सिस्टम (ए-वीडीजीएस) के लिए जिम्मेदार होगा।
कंपनी एएलसीएमएस और आईएलसीएमएस जैसे बिजली प्रबंधन, केबल्स, प्रकाश व्यवस्था और नियंत्रण प्रणाली के लिए अपनी सुरक्षित एलइडी, निरंतर वर्तमान नियामकों (सीसीआर) को प्रदान करेगी। साथ ही केआइए के मौजूदा टर्मिनल-१ और नए टर्मिनल-२ को एकीकृत करेगा जिससे हवाई अड्डे के मौजूदा एप्रन प्रबंधन प्रणाली का बेहतर प्रदर्शन हो पाएगा।

'चेहरा' ही होगा बेंगलूरु हवाई अड्डे पर बोर्डिंग पास
गौरतलब है कि अगले साल की दूसरी तिमाही से बेंगलूरु हवाई अड्डे से पूरी तरह कागज मुक्त हवाई सफर किया जा सकेगा। कैंपेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (केआइए) पर यात्रियों का चेहरा ही उनके लिए बोर्डिंग पास की तरह काम करेगा। इस तरह की सुविधा उपलब्ध कराने वाला केआइए देश का पहला हवाई अड्डा होगा। हवाई अड्डे की परिचालक कंपनी बेंगलूरु अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (बियाल) ने इसके लिए विजन बॉक्स के साथ करार किया है। इसके तहत केआइए पर कागजविहीन बायोमेट्रिक सेल्फ बोर्डिंग सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इसमें यात्री का चेहरा ही बोर्डिंग पास का काम करेगा। अगले साल की पहली तिमाही के अंत तक इस सुविधा के शुरू हो जाने की संभावना है। शुरूआती दौर में तीन निजी उड्डयन कंपनियों-जेट एयरवेज, एयर एशिया और स्पाइस जेट के यात्री इसका उपयोग कर सकेंगे।