newsdog Facebook

अब सारा भारत चखेगा खट्टा-मदरा-सेपू वड़ी-पीली दाल का स्वाद

Divya Himachal 2018-09-13 23:04:49

राष्ट्रीय होटल प्रबंधन संस्थान हमीरपुर के छात्रों ने सीखे पहाड़ी व्यंजन बनाने के टिप्स, इंस्टीच्यूट में सजी हिमाचली धाम

हमीरपुर— राष्ट्रीय होटल प्रबंधन संस्थान (आईएचएम) सलासी (हमीरपुर) ने हिमाचली धाम को अब पूरे देश भर में पहचान दिलाने के लिए पहल की है। संस्थान की ओर से अपने ही छात्रों को हिमाचली धाम के व्यंजन बनाने के लिए भी तैयार किया गया है। इसके लिए उन्हें बाकायदा रसोइयों (बोटियों) से भी टिप्स दिलाए गए हैं, साथ ही किस तरह इस धाम को परोसा जाता है, इसकी भी ट्रेनिंग छात्रों को करवाई जा रही है। इसके लिए गुरुवार को होटल प्रबंधन संस्थान के छात्रों को हिमाचली धाम बनाने के टिप्स भी दिए गए। इसके लिए हिमाचली धाम कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। इसमें प्रारंभिक तौर पर मंडी, कांगड़ा, हमीरपुर तथा बिलासपुर के प्रीति भोज में बनने वाले व्यंजनों को शामिल किया गया, जिसमें कांगड़ा का मदरा और खट्टा तथा मंडी की सेपू बडिय़ां, बिलासपुर की धुली दाल और हमीरपुर के राजमाह तथा पीली दाल को विशेष तौर पर शामिल किया गया। इन व्यंजनों को जमीन में खोदी गई आग की भ में चरोटियों (बल्टोहियों) में बनाया गया, जबकि खाने के लिए पत्तलों का उपयोग किया गया है। हिमाचली दाम के इन व्यंजनों को धोती और बनियान पहने रसोइयों द्वारा पूरी तरह पारंपरिक तरीके से परोसा गया। धाम का स्वाद चखने आए मेहमानों में डीसी हमीरपुर डा. ऋचा वर्मा, एडीसी रत्न गौतम, एसी-टू-डीसी अनुपम शर्मा और एसडीएम शिल्पी बेक्टा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व अन्य गणमान्य अतिथियों ने शिरकत की तथा होटल प्रबंधन संस्थान की पहल को सराहा। बता  दें  कि आईएचएम हमीरपुर में पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब सहित विभिन्न राज्यों के छात्र प्रशिक्षण हासिल कर रहे हैं। राष्ट्रीय होटल प्रबंधन संस्थान से पढक़र निकले छात्र विदेशों में भी अपनी पहचान बना चुके हैं। इसी कड़ी में अब संस्थान ने हिमाचली धाम को पूरे देश तक पहुंचाने के लिए यह प्लान तैयार किया है।

हिमाचली धाम को मिलेगी देश में पहचान

संस्थान के प्रोफेसर पुनीत बंटा ने बताया कि राष्ट्रीय होटल प्रबंधन संस्थान में पहली बार हिमाचली व्यंजन बनाने के बारे में छात्रों को प्रशिक्षण दिया गया है। उन्होंने बताया कि संस्थान में 100 के करीब छात्र-छात्राएं होटल मैनेजमेंट के विभिन्न कोर्सेज में प्रशिक्षण हासिल कर रहे हैं। हिमाचली धाम का मकसद इन व्यंजनों की महक अन्य राज्यों तक पहुंचाना है। इसके लिए इस संस्थान से उत्तीर्ण होने के बाद छात्र-छात्राएं विभिन्न जगहों पर पांच सितारा होटलों में कार्य करेंगे और इनके माध्यम से ही हिमाचली व्यंजनों को एक पहचान भी मिलेगी।