newsdog Facebook

नवरात्रि 2018: यहां शेर नहीं बैलगाड़ी पर सवार होकर आएंगी मां दुर्गा, जोर-शोर से हो रही तैयारी

Daily Hindi News 2018-10-09 14:48:26

गुवाहाटी।


दुर्गा पूजा को अब सप्ताह भर भी बाकी नहीं रह गया है। एक ओर जहां महानगरवासियों पर दुर्गाोत्सव का खुमार चढ़ने लगा है, वहीं दूसरी ओर विभिन्न पूजा पंडालों में भी युद्ध स्तर पर दिन-रात पूजा पंडालों में भी युद्ध स्तर पर दिन-रात काम चल रहा है।

 


 



 सभी पूजा कमेटियों की मंशा नया कुछ करने की, बड़ा कुछ करने की है। इस कड़ी में कालापहाड़ भास्करनगर सार्वजनिक दुर्गा पूजा कमेटी भी शामिल नजर आ रही है। वर्ष 1970 में स्थापित यह पूजा समिति अबकी बार अपनी स्थापना के 49वें वर्ष में कदम रखने जा रही है।


 


 कमेटी के सदस्य प्राणजीत कर ने बताया कि इस बार पूजा का बजट पिछली बार से लगभग दोगुना 25 लाख रुपए रखा गया है। इसमें से 30 प्रतिशत धनराशि जनसेवा कार्य में खर्च की जाएगी। कर ने बताया कि अबकी बार हमारे पंडाल में जय जवान जय किसान की थीम को देखा जा सकेगा।

 


 



 एक ओर लड़ाकू विमान, टैंक, मिसाइल आदि होंगी तो दूसरी ओर किसानों द्वारा बैलगाड़ी में दुर्गा परिवार को लाते हुए दिखाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज की पीढ़ी को हम दोनों ही बातें बताना और दिखाना चाहते हैं। पहली हमारी सेना, हमारे हथियार और हमारा देश। दूसरी बात हमारे गांव, हमारे खेत-खलिहान और हमारे अन्नदाता अर्थात किसान।

 



 हम अपनी सजावट के माध्यम से महानगरवासियों को यह भी दिखाना चाहते हैं कि ग्रामीण असम की दुर्गा पूजा कैसी होती है। उन्होंने बताया कि पंडाल में एक ओर तो गणतंत्र दिवस की झांकी, अमर जवान ज्योति, इंडिया गेट आदि का मंजर होगा तो दूसरी ओर खेतों में झूमती फसल। उन्होंने बताया कि अष्टमी के पूजन में राज्यपाल प्रोफेसर जगदीश मुखी मुख्य अतिथि होंगे।