newsdog Facebook

करौली: स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता से मिलावटखोरों की चांदी

Eenadu India 2018-11-06 22:00:00
करौली. स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता के चलते इस साल दीपावली के मौके पर जिले मे मिलावटी वस्तुओं पर नियंत्रण रखने के लिये खाद्य निरीक्षक नहीं लगाया.स्वास्थ्य विभाग इस संबंध में आंखें मूंदे बैठा रहा. जिसका फायदा मिठाईयों में मिलावट करने वालों ने उठाया और भारी नुकसान लोगों को हो सकता है.

फोटो क्लिक कर देखें वीडियो.


करौली. स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता के चलते इस साल दीपावली के मौके पर जिले मे मिलावटी वस्तुओं पर नियंत्रण रखने के लिये खाद्य निरीक्षक नहीं लगाया.स्वास्थ्य विभाग इस संबंध में आंखें मूंदे बैठा रहा. जिसका फायदा मिठाईयों में मिलावट करने वालों ने उठाया और भारी नुकसान लोगों को हो सकता है.


जाहिर है, जहां दीपावली के त्योहार पर मिठास घोल देने वाली मिठाई सुंदर और आर्कषक तरह से रंग-बिरंगी रोशनी के बीच दुकानों पर सजी दिख रही है, वहीं बताया जा रहा है कि इस बार  दीपावली पर मिठाईयों मे मिलावट का काम इस बार जमकर हुआ है. चंद रुपये के लालच में कई हलवाई इस बार लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहे हैं. दरअसल, हमेशा दीपावली पर मिलावटी सामान पर नकल कसने के लिए अभियान चलता था. जो मिलावटी वस्तु का निरीक्षण कर उसे शीघ्र पाबंद कर दिया जाता, लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं हुआ.

पढ़ें: 
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में खाद्य निरीक्षक का पद बीते कई महीनों से रिक्त चल रहा है. इसके लिये मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी हरफूल बैरवा ने विभाग को दो बार नोटिस जारी कर किए. लेकिन अभी तक शहर में कोई भी खाद्य निरीक्षक नहीं लग पाया है.
इस बारे मे लोगों ने बताया कि यहां का प्रशासन और चिकित्सा-स्वास्थ्य विभाग किसी काम का नहीं है. यहां के प्रशासन को जनता और जनता के प्रति संवेदनशीलता नहीं है, जिसके चलते जिले की जनता काफी परेशानियों से जूझ रही है और इस बार दीपावली पर हर छोटी से बड़ी दुकान पर जमकर मिठाईयों में मिलावट हुई है़, जो लोगों को बीमार कर रही है. मिलावटी जहर खाने के लोग बीमार हो रहे हैं और अस्पताल के चक्कर काट रहे हैं. प्रशासन को शहर में बिक रहे मिलावटी मीठे जहर पर बिकने से रोक लगानी चाहिए, जिससे लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड ना हों.

पढ़ें:
मामले में जिला कलेक्टर अभिमन्यु कुमार ने बताया की सीएमएचओ हरफूल बैरवा को निर्देशित कर दिया गया है. मिठाईयों की दुकानों के सैंपल भरने के और जांच करने के निर्देश जारी किए गए हैं और जहां भी मिलावटी मिठाई मिलती है. उनको फेंकने और दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए गए हैं.
वहीं. सीएमएचओ डॉ. हरफूल बैरवा ने बताया कि खाद निरीक्षक का पद रिक्त चल रहा है इसके लिए विभाग को दो बार पत्र लिखकर खाद निरीक्षक लगाने की मांग की गई, लेकिन खाद निरीक्षक नहीं आया. इसके लिए नोटिस भी जारी कर दिए गए हैं. दुकानों पर जाकर जांच पड़ताल की जाएगी.
गौरतलब है कि दीपावली पर मिठाईयों को खरीदने के लिए दुकानों पर लंबी-लंबी कतारें लग रही हैं. कई दुकानों पर तो मिठाई के खरीददारों की लाइन टूटने का नाम नहीं ले रही है. मिठाई पर ग्राहकों की भीड़ मचने पर मिठाई विक्रेता खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं. लेकिन दीपावली पर मुंह मे मिठास घोलने वाली मिठाई लोगों के स्वास्थ्य के लिये कितनी घातक साबित हो सकती है, इसका कई लोगों को जरा भी अंदाजा नहीं है.