newsdog Facebook

दिवाली के समय में जिस बात का डर था, वही हुआ

Eenadu India 2018-11-08 16:00:00
हनुमानगढ़. दिवाली के दूसरे दिन हनुमानगढ़ टाउन के सूर्य नगर में पशुपालकों के प्रणाली में पटाखों की चिंगारी से आग लग गई, जिससे लाखों रुपयों का नुकसान हो गया. पशुपालकों का आरोप है कि दमकल विभाग को सूचना देने के बावजूद वो मौके पर काफी देर से पहुंचे, जिससे उनका बड़ा नुकसान हो गया. हालांकि प्रशासन ने दीपावली से पहले दावा किया था कि किसी प्रकार की अनहोनी नहीं होने दी जाएगी.

फोटो पर क्लिक कर देखें वीडियो.


हनुमानगढ़. दिवाली के दूसरे दिन हनुमानगढ़ टाउन के सूर्य नगर में पशुपालकों के प्रणाली में पटाखों की चिंगारी से आग लग गई, जिससे लाखों रुपयों का नुकसान हो गया. पशुपालकों का आरोप है कि दमकल विभाग को सूचना देने के बावजूद वो मौके पर काफी देर से पहुंचे, जिससे उनका बड़ा नुकसान हो गया. हालांकि प्रशासन ने दीपावली से पहले दावा किया था कि किसी प्रकार की अनहोनी नहीं होने दी जाएगी.


दरअसल, सूर्य नगर के वार्ड नंबर 26 में रहने वाले पशुपालकों के मन में पटाखों की चिंगारी से  पशुओं के रखे चारे में आग लग जाने का डर पहले ही था और दीपावली के दूसरे दिन पटाखों की चिंगारी से लगी आग ने विकराल रूप ले लिया. 

पढ़ें:
पशुपालकों की रखी पराली में भयंकर आग लगने के बावजूद दमकल विभाग ने गंभीरता नही दिखाई और सूचना दिए जाने के करीब एक घंटे बाद तक ही मौके पर पहुंचा. हालांकि इस दौरान वार्ड पार्षद देवेंद्र पारीक ने मौके पर पहुंचकर अपने स्तर पर आग बुझाने का काफी प्रयास किया, लेकिन ये प्रयास नाकाफी था.
करीब 1 घंटे की देरी के बाद मौके पर 5 से 6 दमकल पहुंची, जिन्होंने आग पर काबू करने का प्रयास शुरू किया, लेकिन आग पर काबू नहीं कर सके. आग बढ़ती गई और आसपास के कई पशुपालकों की पराली में आग तक आग पहुंच गई. करीब 4 घंटों की देरी के बाद आग पर काबू पाया जा चुका पाया जा सका, लेकिन तब तक पशुपालकों का बड़ा नुकसान हो चुका है.
पढ़ें:
इस दौरान पशुपालकों के आंखों के सामने ही उनके लाखों रुपयों का नुकसान होता रहा, जिससे पशुपालकों के पशु पालकों में आक्रोश फैल गया और उन्होंने प्रशासन को जमकर खरी-खोटी सुनाई. मौके पर पहुंचे पार्षद देवेंद्र पारीक ने कहा कि इस घटना के बाद प्रशासन की लापरवाही साफ तौर पर देखी जा सकती है

पशुपालकों का आरोप है कि दमकल विभाग को सूचना देने के बावजूद वे मौके पर नहीं पहुंचे. हालांकि प्रशासन ने दीपावली से पहले दावा जरूर किया था कि किसी प्रकार की अनहोनी नहीं होने दी जाएगी और उसके लिए उन्होंने दमकल की व्यवस्था कर रखी है. लेकिन उनके ये दावे महज खोखले साबित हुए. पशुपालकों अब प्रशासन से मुआवजे की मांग कर रहे हैं.