newsdog Facebook

वास्तु के हिसाब से यहां ना रखें घर का सामान, होगा धन का नुकसान

Kakkajee 2018-12-06 06:15:00

घर में सुख-शांति बनी रहे और धन का आगमन होता रहे इसके लिए वास्तु में कुछ उपाय बताए गए हैं। इन्हें अपनाने से घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहता है और सभी कार्य पूरे होते हैं। वास्तु के अनुसार, घर में कौन सी चीज कहां रखनी चाहिए और कौन सी नहीं रखनी चाहिए, इन सभी बातों का जिक्र किया गया है। दैनिक जीवन से जुड़ी छोटी-छोटी बातों का वास्तु में अधिक महत्व माना गया है। आइए जानते हैं कि वास्तु के हिसाब से घर का सामान कहां ना रखें…
वास्तु के अनुसार, दूध वाले पौधे जैसे- आकंडे और बरगद का पौधा आदि। इस तरह के पौधों को घर में नहीं रखना चाहिए। इससे वास्तु दोष होता है, साथ ही ये पौधे आपके स्वास्थ्य पर भी नकारात्मक प्रभाव डालते हैं। घर में हमेशा तुलसी का पौधा जरूर रखना चाहिए और रोज सुबह-शाम उसकी पूजा करनी चाहिए।
घर के किसी हिस्से में अगर वास्तु दोष है तो वहां हर रोज सुबह-शाम शंख बजाना चाहिए। शंख की ध्वनि से वायु शुद्ध और उर्जावान होती है। साथ ही लक्ष्मीजी का वास भी होता है। अगर घर में शंख नहीं है तो आप मंदिर में बजने वाली घंटी भी बजा सकते हैं। इससे नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।
झाड़ू-पोछा को हमेशा घर के दक्षिण दिशा में रखना चाहिए। साथ ही सप्ताह में एक दिन पानी में नमक डालकर पोंछा लगाना चाहिए। झाड़ू-पोछा को कभी भी सीढ़ियों के नीचे नहीं रखना चाहिए और ना ही कभी भी पैर लगाना चाहिए। इससे लक्ष्मीजी नाराज होती हैं।
वास्तु विज्ञान के अनुसार, तिजोरी के ऊपरी वाले हिस्से में और सबसे ऊपर कोई भी सामान या पैसा नहीं रखना चाहिए। तिजोरी में पैसे मध्यम वाले हिस्से से रखना शुरू करें। साथ ही ध्यान दें कि तिजोरी में मुकदमे और वाद-विवाद से संबंधित कोई भी डॉक्यूमेंट्स ना रखें।

घर के आग्नेय कोण को हमेशा सही रखना चाहिए। इस दिशा में पानी से संबंधित कोई भी चीज जैसे टैंक ना रखें। साथ ही ध्यान रखें कि इस स्थान पर पानी की निकासी तो नहीं है। दक्षिण और पूर्व के मध्य का कोणीय स्थान आग्नेय कोण के नाम से जाना जाता है। यह स्थान देवता का प्रमुख स्थान है।
घर में कभी भी टूटा हुआ दर्पण नहीं रखना चाहिए और ध्यान दें कि दो दर्पण एक-दूसरे के आमने-सामने ना हों। इससे धन का नुकसान होता है। घर में कभी भी गोल आकृति का दर्पण रखना शुभ नहीं माना जाता है, हमेशा आयातकार या वर्गाकार का दर्पण ही रखें।
घर के पूजन स्थल के ऊपर कोई भी सामान नहीं रखना चाहिए। पूजन कक्ष हमेशा पूर्व या उत्तर दिशा में होना चाहिए। हमेशा ध्यान रखें कि पूजन स्थल पर सुबह-शाम दीपक जले, इससे आपको लाभ मिलता है। साथ ही कभी भी मृत सदस्यों के चित्र भी पूजन स्थल पर नहीं रखना चाहिए।