newsdog Facebook

घर के इस कोने में बना दें उल्टा स्वास्तिक, होगा वो जो आप सोच भी नहीं सकते हैं

News Track Hindi 2019-01-09 16:00:00

कहते हैं कभी भूलकर भी उल्टा स्वास्तिक नहीं बनाना चाहिए. ऐसे में आप सभी जानते ही होंगे कि स्वास्तिक शब्द संस्कृत के दो शब्दों ‘सु’ एवं ‘अस्ति’ से मिलकर बना है, जिनका अर्थ है ‘शुभ हो’, ‘कल्याण हो’. कहते हैं हिंदू धर्म में स्वास्तिक को सबसे अहम माना जाता है. ऐसे में पूजा-पाठ या किसी भी शुभ कार्य से पहले स्वास्तिक को बनाया जाता है. इसे धन की देवी लक्ष्मी और बुद्धि दाता श्री गणेश जी का प्रतीक मन जाता है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं उल्टे स्वास्तिक को बनाने से होने वाले लाभ के बारे में. जी हाँ, कहते हैं उल्टे स्वास्तिक बनाने से मनोकामनाएं जल्द पूरी हो जाती है और क्या क्या होता है आइए जानते है.

व्यापार में बढ़ोतरी के लिए - कहते हैं अगर कोई व्यपार में बढ़ोतरी चाहता है तो उसके लिए गुरुवार को घर के ईशान कोण यानी उत्तरी-पूर्वी को गंगाजल से धोकर वहां हल्दी का स्वास्तिक बनाएं. उसके बाद इस स्वास्तिक की विधिवत पूजा कर गुड़ का भोग लगाएं ध्यान रहे कि ऐसा लगातार 7 गुरुवार करने से व्यापार में बड़ा फायदा होता है.

घर में समृद्धि लाने के लिए - अगर आप अपने घर में समृद्धि चाहते हैं तो घर के बाहर रंगोली के साथ कुंकुम, सिंदूर या रंगोली से स्वास्तिक बनाएं क्योंकि इससे देवी-देवता प्रसन्न होकर घर में प्रवेश करते हैं .
 

मनचाहा आशीर्वाद पाने के लिए - अगर आप यह चाहते हैं तो घर के पूजास्थल या मंदिर में स्वास्तिक बनाकर उस पर इष्टदेव की प्रतिमा रख कर पूजा करें क्योंकि इससे देवता तुरंत प्रसन्न होकर मनचाहा आशीर्वाद दे देंगे.
 

घर के क्लेश समाप्त करने के लिए - इसके लिए घर के ईशान कोण यानी उत्तरी-पूर्वी दिशा में दीवार पर हल्दी का स्वास्तिक बना दें, इससे घर में सुख-शांति आएगी और घर में होने वाले क्लेश खत्म हो जाएंगे.
 

मनोकामनाएं जल्दी पूरी करने के लिए - अगर घर के पूजास्थल या मंदिर में स्वास्तिक बनाकर उस पर पांच अनाज रखकर दीपक जला देंगे तो सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाएंगी.