newsdog Facebook

राम जन्मभूमि विवाद पर कोर्ट का फैसला कुबूल: इकबाल अंसारी

Dainik Pukar 2019-01-10 00:00:00

अयोध्या. सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या के राम जन्मभूमि विवाद पर आज कोर्ट के अगली सुनवाई 29 जनवरी तक स्थगित करने पर भले ही संत थोड़ा विचलित है, लेकिन बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी बेहद तसल्ली में हैं. उन्होंने कहा कि इस बड़े फैसले में भले ही थोड़ा समय लग रहा है, पर कोर्ट का जो भी फैसला होगा हमको कुबूल होगा.
राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद की सुनवाई को 29 जनवरी तक स्थगित होने के बाद बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी ने कहा कि सुनवाई आज से शुरू होनी थी कुछ कारणों से सुनवाई की तिथि आगे बढ़ा दी गई है. उन्होंने कहा कि कोर्ट तो सुबूतों के आधार पर फैसला करता और जो फैसला कोर्ट करेगा वो माना जाएगा. उन्होंने कहा कि कोर्ट पर दबाव उचित नहीं है. राम मंदिर समर्थकों की व्यग्रता के विपरीत बाबरी मस्जिद के पक्षकार मोहम्मद इकबाल ने कहा कि कोर्ट पर कोई दबाव नहीं होना चाहिए. कोर्ट आज फैसला करे या बाद में. वह जो भी फैसला करेगी, उसका स्वागत है. अयोध्या के संत समाज ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. राम मंदिर न्यास के संत राम विलास वेदांती ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के बेंच में होने पर ही सवाल उठा दिया. उन्होंने कहा कि गोगई पूर्व कांग्रेस सीएम के बेटे हैं और कांग्रेस नहीं चाहती कि मामले पर फैसला जल्द हो. संतों ने राम मंदिर पर तारीख पर तारीख मिलने पर सख्त नाराजगी जताई है. अयोध्या के संतों ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि सुनवाई टालने की कोर्ट की इस शैली को लेकर अब संत 31 जनवरी और 2 फरवरी को फैसला करेंगे.वेदांती ने जस्टिस संतों ने कहा कि कांग्रेस और सुन्नी वक्फ बोर्ड जल्द फैसला नहीं चाहते. राम मंदिर न्यास के संत रामविलास वेदांती ने कहा कि जिस तरह जस्टिस यूयू ललित पर आपत्ति उठाई गई है उसी तरह चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को भी बेंच से अलग हो जाना चाहिए. जस्टिस गोगोई कांग्रेस के पूर्व सीएम के बेटे हैं और कांग्रेस इस मामले में जल्द फैसला नहीं चाहती.
विश्व हिंदू परिषद व राम जन्मभूमि न्यास ने तीखी प्रतिक्रिया दी और कहा कि भगवान श्री राम की जन्मभूमि पर हर हाल में मंदिर का निर्माण होगा. दुनिया की कोई ताकत श्री राम की जन्म भूमि को उनसे नहीं छीन सकती.विहिप प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया में अवरोध उत्पन्न करने वाली कांग्रेस और बाबरी के समर्थक मामले को लगातार लटकाए रखना चाहते हैं.