newsdog Facebook

सामू हत्याकांड के आरोपी को गिरफ्तार करने में फेल हुई रांची पुलिस, लोगों ने थाने में किया प्रदर्शन

Eenadu India hi 2019-01-11 02:06:00

थाने के बाहर खड़े स्थानीय लोग


रांची: डोरंडा में हुए सामू हत्याकांड के आरोपियों की गिरफ्तारी का 24 घंटे का अल्टीमेटम समाप्त हो गया है. हटिया डीएसपी की ओर से दिया गया अल्टीमेटम समाप्त होते ही इलाके में पुलिस के खिलाफ आक्रोश फैल रहा है. गुरुवार को भी पूरे दिन डोरंडा थाने में बस्ती के लोगों की भीड़ जमा रही. हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं हो पाने की सूरत में शुक्रवार को बस्ती के लोग एक बार फिर से सड़क पर उतरने की तैयारी में है.


8 दिसंबर की रात करीब 10 बजे सामू निवासी सामू उरांव और घाघरा के ग्राम सचिव शंकर सुरेश उरांव पर मोटरसाइकिल सवार अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी. इस वारदात में सामू की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि शंकर गोली लगने से बुरी तरह से घायल हो गए थे. रिम्स में इलाजरत शंकर की स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है.

हत्या से आक्रोशित ग्रामीणों ने 9 दिसंबर को रांची घाघरा सड़क को 5 घंटे तक जाम किए रखा था. जाम को समाप्त करने के लिए हटिया डीएसपी ने हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए 24 घंटे का समय मांगा था, लेकिन 24 घंटे बीत जाने के बाद और अपराधियों के नाम की जानकारी होते हुए भी पुलिस अब तक उन्हें गिरफ्तार नहीं कर पाई है.

गोलीबारी की घटना में घायल हुए शंकर के बयान पर डोरंडा पुलिस ने दीपक और उमेश के खिलाफ हमले की साजिश रचने का मामला दर्ज किया था. पुलिस दोनों की तलाश में जुटी हुई है, लेकिन अभी तक उन्हें इसमें कोई सफलता हाथ नहीं लगी है.

हत्यारों की तलाश में जुटी पुलिस ने गुरुवार को कई निर्दोष युवकों को लाकर थाने में बंद कर दिया था. इसे लेकर भी कई ग्रामीण थाने पहुंच गए थे. हालांकि, उन्हें बाद में समझा बुझाकर शांत करवाया गया और निर्दोष युवकों को थाने से छोड़ दिया गया. हाल के दिनों में डोरंडा इलाके में जमीन के विवाद को लेकर 3 हत्याएं हो चुकी है. ऐसे में अब लोगों का पुलिस पर से भरोसा उठ रहा है.