newsdog Facebook

कांग्रेस को गठबंधन से क्यों रखा बाहर? मायावती ने गिनाए कारण

Jansatta 2019-01-12 17:58:18
मायावती और अखिलेश यादव संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान। (PTI Photo)

उत्तर प्रदेश या कहें कि देश की राजनीति में आज एक बड़ी घटना हुई। उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी ने गठबंधन का ऐलान कर दिया और दोनों पार्टियों के प्रमुख क्रमशः मायावती और अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया को सीट बंटवारे की जानकारी भी दी। हालांकि पहले खबरें थीं कि उत्तर प्रदेश में भाजपा के खिलाफ महागठबंधन करने की तैयारी की जा रही है, जिसमें कांग्रेस के शामिल होने की बात कही जा रही थी। लेकिन अब बसपा और सपा ने कांग्रेस को दरकिनार करते हुए दोनों पार्टियों के बीच ही गठबंधन करने का फैसला किया। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस को गठबंधन में शामिल नहीं करने का कारण भी बताया। दरअसल अपने भाषण में मायावती ने भाजपा के साथ-साथ कांग्रेस पर भी हमला बोला और दोनों ही पार्टियों को कटघरे में खड़ा किया और कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी और भाजपा दोनों ही भ्रष्ट हैं और दोनों में खास अंतर नहीं है।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि ‘जब भी हमने कांग्रेस जैसी पार्टियों के साथ गठबंधन किया तो उन्हें हमसे फायदा मिला, लेकिन हमें कुछ नहीं मिला। उनका वोट हमारी तरफ ट्रांसफर नहीं हुआ और उन्होंने ही हमारा फायदा उठाया। साल 1996 में किया गया प्रयोग इसी ओर इशारा करता है। यहां तक कि समाजवादी पार्टी को भी 2017 में ऐसा ही अनुभव हुआ।’ भाजपा और कांग्रेस दोनों को निशाने पर लेते हुए मायावती ने कहा कि ‘भाजपा और कांग्रेस एकसमान हैं। उनकी सोच एक सी है, दोनों भ्रष्ट हैं और डिफेंस घोटाले में शामिल हैं। बोफोर्स से कांग्रेस सरकार को नुकसान उठाना पड़ा, राफेल से मौजूदा भाजपा को नुकसान होगा।’

बता दें कि बसपा और सपा के बीच हुए सीट बंटवारे के तहत यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से दोनों पार्टियों को बराबर 38-38 सीटें मिली हैं। वहीं 2 सीटें अन्य सहयोगियों के लिए और रायबरेली और अमेठी की 2 सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ी गई हैं। 2019 लोकसभा चुनावों में होने वाले संभावित महागठबंधन के नजरिए से भी बसपा और सपा का यह फैसला काफी अहम माना जा रहा है। उल्लेखनीय है कि जब प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अखिलेश यादव से पूछा गया कि क्या वह प्रधानमंत्री पद के लिए मायावती का समर्थन करेंगे? तो अखिलेश यादव ने बड़ी ही चतुराई से जवाब देते हुए कहा था कि आप जानते हैं कि मैं किसका समर्थन करुंगा। बात संभालते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश ने देश को कई प्रधानमंत्री दिए हैं, उम्मीद है देश का अगला पीएम भी उत्तर प्रदेश से ही होगा।