newsdog Facebook

पाक में जासूसी की ट्रेनिंग लेकर आया था नवाब, एयर स्ट्राइक के बाद से लगातार ISI के संपर्क में था

Patrika 2019-03-12 08:16:06

जयपुर। जासूसी मामले में गिरफ्तार जैसलमेर के सम क्षेत्र स्थित गांगा बस्ती निवासी नवाब खां पुत्र मठार खां ने पाक में एक माह तक प्रशिक्षण लिया था। भारत लौटने के बाद उसकी गतिविधियां बढ़ गई थी। तब से वह खुफिया एजेंसियों की नजर में था।

 

पुलवामा हमले और एयर स्ट्राइक के बाद नवाब खां पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ के लगातार संपर्क में था। वह भारतीय सीमा पर बीएसएफ व सेना की गतिविधियों की जानकारी आइएसआइ को दे रहा था। आइएसआइ को सूचना देने के बदले उसने 5 हजार रुपए लिए थे।

 

इंटेलिजेंस सूत्रों की मानें तो नवाब खां का पाकिस्तान में सुमार खां नाम का व्यक्ति रिश्तेदार है जो आइएसआइ से मिला है। पिछले साल जनवरी-फरवरी में सुमार खां से मिलने ही नवाब खां पाकिस्तान गया था। राजस्थान पुलिस की इंटेलिजेंस विंग ने रविवार को उसे पकड़ा था।

 

जानकारी के अनुसार नवाब खां सम क्षेत्र में जीप चलाने का कार्य करता है। कई महीनों से उस पर सुरक्षा एजेंसियों की निगरानी थी। जानकारी यह भी सामने आई है कि जयपुर से आई टीम ने नवाब को फिल्मी अंदाज में दबोचा। वे जीप सफारी के ग्राहक बनकर गए। घूमने के दौरान वे अपना मोबाइल सम में ही छोड़कर गए।

 

नवाब के साथ जैसलमेर आने पर उन्होनें मोबाइल सम में भूल आने की बात कही और उसके परिचित को मोबाइल के साथ बुलाया। नवाब के परिचित के पहुंचने पर उसे जीप सौपकर नवाब के जयपुर साथ ले गए। जैसलमेर जिले में पुलवामा हमले के बाद से ही सभी सुरक्षा और खुफिया एजेंसियां हाई अलर्ट पर आ चुकी हैं। जिले में पश्चिमी सीमा का सबसे बड़ा हिस्सा है। यही कारण है कि सीमा सुरक्षा बल के साथ पुलिस व अन्य एजेंसियों ने यहां खास चौकसी बरतने पर ध्यान केंद्रित किया। यही कारण रहा कि आमजन भी मुस्तैद हो गए।