newsdog Facebook

अजब- गजब- जिसका उत्तर ही नहीं, गणित के प्रश्रपत्र में पूछा ऐसा सवाल

Patrika 2019-03-12 10:24:33

हंडिया.
सोमवार को प्राथमिक शालाओं में कक्षा पांचवी का गणित का पर्चा लिया गया। सुबह पर्चा पढ़ते ही परीक्षार्थियों का दिमाग ठनका। ऑब्जेक्टिव के रूप में पूछा गया पहला सवाल ही गलत दिखाई दिया। यह देख शिक्षक भी एक-दूसरे का मुंह ताकते नजर आए। शिक्षकों ने आपसी विचार-विमर्श कर यह प्रश्र छोडकऱ आगे के प्रश्र हल करने की सलाह दी।

गणित का पर्चा देखते ही परीक्षार्थी चकरा गए। दरअसल पर्चे में पहले ही प्रश्र में गड़बड़ी थी। आब्जेक्टिव के रूप में पूछे गए प्रश्र में सही उत्तर ही नहीं दिया गया था। प्रश्र में परीक्षार्थियों से पूछा गया था कि इसमें से कौन सी संख्या नौ हजार हैं? उत्तर के लिए जो चार विकल्प लिखे गए थे उसमें कहीं भी 9000- नौ हजार का आंकड़ा ही नहीं था। चार विकल्पों में 90001, 9100, 9001 और 901 संख्या लिखी गई थी।

पहला प्रश्न पढ़ते ही खलबली सी मच गई। उत्तर नहीं देख विद्यार्थी विस्मित रह गए। शिक्षकों ने छात्र-छात्राओं की दिक्कत समझी और आगे के प्रश्र हल करने की समझाइश दी। पर्चा खत्म होते ही छात्र-छात्राओं द्वारा बाहर आकर इस त्रुटि से परिजनों को अवगत कराया गया जिस पर परिजनों द्वारा शिक्षकों से पूछताछ की गई। बेचारे शिक्षक निरुत्तर नजर आए। बताया जाता है कि इस वर्ष कक्षा 5 वीं की परीक्षा बोर्ड पैटर्न पर ली जा रही है जिसके पर्चे जिला मुख्यालय से छपाई कर भेजे गए हैं।

- स्कूल से पर्चा भेजने के बाद इस पर उचित निर्णय लिया जाएगा। गफलत हुई है तो मूल्यांकन के समय समिति जो निर्णय लेगी उसपर अमल किया जाएगा।
सीएस टैगोर
जिला शिक्षा अधिकारी, हरदा