newsdog Facebook

ऑनलाइन साइट पर सामान खरीद-बेच रहे हैं तो हो जाएं सावधान

Patrika 2019-05-16 17:42:44

जयपुर. साइबर अपराधियों ने अब ई-कॉमर्स वेबसाइट पर सेंध मारना शुरू कर दिया है। अपराधी सामान खरीदने का विज्ञापन देकर और ग्राहक बनकर लोगों से ठगी कर रहे हैं। शहर में दूसरे दिन भी ई-कॉमर्स वेबसाइट से ठगी की वारदात हुई। खो-नागोरियान, प्रताप नगर और बजाज नगर में आईटी एक्ट में मामले दर्ज हुए।

 

कार खरीदने के चक्कर में गंवाए लाखों रुपए

गणेश विहार खो-नागोरियान निवासी नवरंग पटेल ने रिपोर्ट दर्ज करवाई है कि पीड़ि़त ने 11 मई को ई-कॉमर्स वेबसाइट पर 270000 रुपए कीमत की कार का विज्ञापन देखा। पीड़ि़त ने 220000 रुपए कार की रेट डाली। पीड़ि़त के पास नवीन कुमार नाम के व्यक्ति का फोन आया, जिसने खुद को कस्टम अधिकारी बताया। व्यक्ति ने कहा कि उसने एयरपोर्ट ट्रांसपोर्ट अधिकारी को कार और कागजात दे रखे हैं उनसे बात कर लो। पीड़ि़त ने अधिकारी से बात की तो उसने 5100 रुपए जमा करवाने के बाद गाड़ी दिखाने के लिए कहा। पीड़ि़त ने ठग के पेटीएम नंबर पर रुपए डलवा दिए तो उन्होंने उसे ट्रांसपोर्ट सर्विस की रसीद, कार की फोटो भेज दी। विश्वास में आकर पीड़ि़त ने और 191000 रुपए डलवा दिए। जिसके बाद ठगों के मोबाइल नंबर बंद कर लिया।

 

खाते से निकाले 20 हजार रुपए

प्रताप नगर सेक्टर-8 निवासी तितिक्षा शर्मा ने ई-कॉमर्स वेबसाइट पर बैड बेचने के लिए विज्ञापन दिया। 14 मई को उसके पास एक व्यक्ति का कॉल आया जिसने बैड खरीदने के लिए एडवांस दस हजार देने, बाकी की रकम बैड लेने के बाद देने की बात कही। 15 मई को उस व्यक्ति का फिर से फोन आया कि वह फोन पे ऐप पर लिंक भेज रहा है। जिस पर क्लिक करने से आपके अकाउंट में रुपए ट्रांसफर हो जाएंगे। पीड़िता ने लिंक पर दो बार क्लिक किया तो उसके खाते से दो बार में 20 हजार रुपए निकल गए। मैसेज आने पर ठगी का पता चला।

 

शॉपिंग खाता हैक कर 59479 रुपए की कर ली खरीददारी

रामनगर निवासी कमलेश कुमार ने बजाज नगर में रिपोर्ट दर्ज करवाई है कि किसी ने उसका अमेजन शॉपिंग खाता हैक कर 59479 रुपए की शॉपिंग कर ली। पीड़ि़त ने बताया कि मार्च में अमेजन ने अकाउंट की केवायसी करवाने पर उसे साठ हजार रुपए की क्रेडिट लिमिट प्रोवाइड करवाई थी। 24 अप्रेल को किसी ने अकाउंट हैक कर ली। जब पीड़ित ने अपना अकाउंट ओपन किया अकाउंट नया शो हो रहा था। पहले वाले ऑर्डर नहीं दिख रहे थे। इस पर पीड़ि़त ने अमेजन को कॉल कर शिकायत की। उन्होंने बताया कि एक लिंक मेल की है उस पर क्लिक कर फोरगेट पासवर्ड के ऑप्शन पर क्लिक करें और अपनी ई-मेल डाले। इसके बाद जो ओटीपी आएगा उसे डाल दें। ऐसा करने पर पुराना अकाउंट खुल गया। पीड़ि़त ने देखा कि उसके अकाउंट पर तीन बार शॉपिंग हुई जिसकी डिलेवरी मुंबई में कवि एस के घर हुई है।