newsdog Facebook

सरकार ने कहा 9, डॉक्टर आ रहे साढ़े 9 बजे

Patrika 2019-06-11 11:41:08

धार.
मरीजों की सेहत सुधारने के लिए सरकार ने ओपीडी का समय बढ़ा दिया। सरकार ने कहा सुबह 9 बजे आएं डॉक्टर और शाम 4 बजे तक मरीजों का ईलाज करें। बावजूद इसके डॉक्टरों का डर्रा नहीं सुधर पा रहा है। पहले अस्पताल में ओपीडी का समय सबह 8 बजे से था तो डॉक्टर 9 बजे तक आते थे। अब सुबह का समय उनके हिसाब से किया तो डॉक्टर आने में और आधा घंटा देरी करने लगे। सोमवार को भी जिला अस्पताल में सुबह 8.15 बजे से ओपीडी के लिए पर्ची बनना शुरू हो गई तो 9 बजे तक 135 मरीज पर्ची बनवा चुके थे। लेकिन ओपीडी में पहला डॉक्टर 9.20 पर आया, जिससे पहले मरीज कतार बनाकर दर्द दूर होने का इंतजार करते रहे। सुबह 9.20 बजे तक 168 मरीज पर्ची बनवाकर लंबी कतार में डॉक्टर का इंतजार कर रहे थे।

पैंसठ की उम्र और इंतजार का दर्द
पेट के दर्द से परेशान पैंसठ वर्षीय पीरूलाल उपचार के लिए अस्पताल आए। उन्हें पता नहीं था कि समय बदलकर अब 9 बजे हो गया, जो सुबह 8.30 बजे ही पर्ची कटवाकर डॉक्टर का इंतजार करने लगे। पैंसठ साल की उम्र में भी मर्ज की दवा के लिए डेढ़ घंटे तक इंतजार करना बुजूर्ग मरीज को बहुत भारी पड़ा, क्योंकि गर्मी का कोहराम और पेट का दर्द दोनों ने एक साथ उन्हें परेशान किया।

गायनिक में भी रही कतार
इधर प्रसव दर्द से राहत पाने के लिए जिला अस्पताल के गायनिक जांच के लिए आने वाली महिलाओं को भी डॉक्टरों का इंतजार करना पड़ा। सुबह 8.30 बजे से कतार लगाकर डॉक्टर का इंजतार करने वाली गर्भवति महिलाओं को पौन घंटे तक इंतजार करना पड़ा। हालांकि इससे पहले नर्स मौजूद थी, लेकिन जांच करने वाली डॉक्टर 9.15 पर आई, जिसके बाद ही मरीजों को राहत मिली।

ये है अस्पताल का दावा
सिविल सर्जन डॉ. एमके बौरासी के अनुसार सोमवार को 17 मेडिकल ऑफिसर उपस्थित रहे। इसके अलावा दो क्लास वन डॉक्टर भी मौजूद रहे, लेकिन तीन डॉक्टरों की ड्यूटी दस्तक अभियान में लगी है, जिससे अस्पताल में डॉक्टरों का टोटा और बढ़ गया है। अस्पताल के अनुसार 65 पद स्वीकृति के बावजूद जिला अस्पताल में करीब 34 डॉक्टर उपलब्ध हैं। इनमें से भी कई डॉक्टर लंबे अवकाश पर तो कुछ असमय छुट्टी चले जाते हैं। इससे मरीजों का दर्द और बढ़ता जा रहा है, जिस पर स्वास्थ्य मंत्रालय डॉक्टरों की कमी दूर करने का प्रयास ही नहीं कर रहा है।

मेरी जानकारी में है
स्वास्थ्य सेवाओं में काफी लापरवाही हो रही है। यह मेरी जानकारी मे है। जल्द ही कुछ टीमें बनाकर लगातार औचक निरीक्षण करेंगे और लापरवाही डॉक्टरों और कर्मचारियों पर नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।
-श्रीकांत बनोठ, कलेक्टर धार