newsdog Facebook

गुजरात की ओर बढ़ रहा चक्रवाती तूफान 'वायु', निपटने के लिए गृहमंत्री शाह ने ली बैठक

Patrika 2019-06-11 17:04:16

नई दिल्ली। अरब सागर में कम दबाव की वजह से पैदा हुआ चक्रवाती तूफान 'वायु' महाराष्ट्र से उत्तर में गुजरात की ओर बढ़ रहा है। अगले 24 घंटे में ये खतरनाक रुप अख्तियार कर सकता है। किसी भी हालात से निपटने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को एक उच्च स्तरीय बैठक की। तूफान से प्रभावित होने वाले राज्य के मंत्रालयों और एजेंसी ने शाह ने बातचीत की है। उन्होंने सभी को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि चक्रवाती तूफान 'वायु' जिन इलाकों से गुजरे वहां के लोगों की हर संभव सुरक्षा की जा सके।

स्टैंडबाय पर रखी गई सेना की कई यूनिट

गृह मंत्री अमित शाह ने वरिष्ठ अधिकारियों को कहा है कि जल्द से तूफानी इलाकों से लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया जाए। चक्रवाती तूफान 'वायु' से निपटने के लिए 24*7 कंट्रोल रुम भी बनाए गए हैं। इसके साथ भारतीय तटरक्षक बल, नौसेना, सेना और वायु सेना की कई यूनिट को हवाई निगरानी और रेस्क्यू के लिए स्टैंडबाय पर रखा गया है।

समुद्री इलाकों के लिए रेड अलर्ट
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने चक्रवाती तूफान 'वायु' को लेकर रेड अलर्ट जारी किया है। विभाग ने गुजरात के तटवर्ती इलाकों में चक्रवाती तूफान आने की चेतावनी दी है। मछुआरों को अरब सागर के लक्षद्वीप इलाके, केरल और कर्नाटक के समुद्र इलाके में नहीं जाने की सलाह दी गई है। मौसम विभाग के अनुसार, अरब सागर से उठने वाला चक्रवाती तूफान वायु 75 किलोमीटर से लेकर अधिकतम 135 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार के साथ प्रदेश के कई इलाकों में चलेगा।

12-13 जून को सौराष्ट्र तट पर दस्तक

चक्रवाती तूफान 12-13 जून को सौराष्ट्र तट पर दस्तक दे सकता है। तूफान के कारण अहमदाबाद, गांधीनगर और राजकोट समेत तटवर्ती इलाके वेरावल, भुज और सूरत में भारी बारिश हो सकती है। वहीं हवा की रफ्तार 90-100 किलोमीटर प्रति घंटे से भी तेज होने की आशंका है। अरब सागर से लगे उत्तरपूर्वी इलाके में इसकी रफ्तार 115 किलोमीटर प्रति घंटा रह सकती है।

13 जून को 135 किलोमीटर की रफ्तार से चलेगी हवा

मौसम विभाग ने कहा कि 12 जून को दक्षिण गुजरात और महाराष्ट्र के तटवर्ती इलाके में 50-60 किलोमीटर से लेकर 70 किलोमीटर की रफ्तार से हवा चलेगी और 13 जून को इसकी रफ्तार अरब सागर से सटे उत्तरी इलाके में 110-120 किलोमीटर से लेकर 135 किलोमीटर हो जाएगी।