newsdog Facebook

इंग्लैंड की जमीं पर न्यूजीलैंड से आखिर क्यों कमजोर नजर आ रही टीम इंडिया

Prabhasakshi 2019-06-12 15:18:03

विश्व कप में भारत और न्यूजीलैंड के बीच मुकाबले की बात की जाए तो दोनों टीमों ने विश्व कप में 7 मुकाबले खेले हैं। इन मुकाबलों में न्यूजीलैंड का परचम भारत से मजबूत रहा और उन्होंने 7 में से 4 मुकाबले जीते। जबकि भारत की झोली में महज 3 जीत ही आ पाई।

विश्व कप में भारत अपना तीसरा मुकाबला न्यूजीलैंड के साथ खेलने वाला है। अगर हम इस मुकाबले से पहले दोनों टीमें के प्रदर्शन पर एक नजर डालें तो दोनों टीमों ने 2019 के वर्ल्ड कप में अभी तक एक भी मैच में हार का मुंह नहीं देखा है। लेकिन जब गुरुवार के दिन दोनों टीमों का आपस में सामना होगा तो किसी एक टीम के विजय रथ पर लगाम लग जाएगा। हालांकि सवाल यह खड़ा होता है कि वह टीम कौन सी होगी?

एक नजर आंकड़ों पर2019 का वर्ल्ड कप इंग्लैंड की जमीं में खेला जा रहा है और यहां पर भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले गए मुकाबले में भारत का प्रदर्शन बेहद खराब रहा है। इंग्लैंड में भारत ने न्यूजीलैंड के साथ कुल 3 मुकाबले खेले हैं और तीनों मुकाबलों में करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। ऐसे में भारतीय टीम के लिए यह मुश्किल घड़ी है हालांकि कप्तान विराट कोहली ने कोच रवि शास्त्री के साथ मिलकर इस आंकड़े में बदलाव करने के लिए योजना बना ली है। इस योजना के बारे में तो तभी पता चल पाएगा जब दोनों टीमें मैदान पर उतरेंगी। 
मैच से पहले बन रहा ऐसा संयोग

भारत ने इंग्लैंड में न्यूजीलैंड के खिलाफ जो तीन मुकाबले खेले हैं उनकी तारीख 12 से 14 जून के बीच रही है और संयोग से इस बार भारत विश्व कप का अपना तीसरा मुकाबला 13 जून को न्यूजीलैंड के साथ खेलने वाला है। 
  • पहला मुकाबला 14 जून 1975 को मैनचेस्टर में खेला गया था। इस मुकाबले में ग्लेन टर्नर की शानदार शतकीय पारी की बदौलत न्यूजीलैंड ने 4 विकेट से जीत दर्ज की थी।


  • दूसरा मुकाबला 13 जून 1979 को लीड्स में खेला गया था। इस मुकाबले में ब्रूस एडगर के 84 रन की पारी की बदौलत न्यूजीलैंड ने 8 विकेट से जीत दर्ज की थी।
  • तीसरा मुकाबला 12 जून 1999 को नॉटिंघम में खेला गया। जिसमें न्यूजीलैंड ने भारत द्वारा दिए गए 252 रन के लक्ष्य को पांच विकेट के नुकसान में हासिल कर लिया था।
 रिकॉर्ड बुक पर अगर एक नजर डालें तो भारत और न्यूजीलैंड ने आपस में 98 एकदिवसीय मुकाबले खेले हैं और इन मुकाबलों में भारत ने 49 मैचों में जीत हासिल की। जबकि 43 मैचों में भारत को हार का सामना करना पड़ा जिसका मतलब है कि न्यूजीलैंड का प्रदर्शन भारत से बेहतर था। इसके अतिरिक्त एक मुकाबला ड्रा हुआ तो 5 मुकाबले बेनतीजा रहे। इन आंकड़ों पर गौर करें तो भारत के पास गुरुवार को जीत का अर्धशतक लगाने का मौका है और ऐसा तभी मुमकिन हो पाएगा जब टीम इंडिया का ओपनिंग क्रम प्रदर्शन में कोई कमी न करे। विश्व कप में भारत और न्यूजीलैंड के बीच मुकाबले की बात की जाए तो दोनों टीमों ने विश्व कप में 7 मुकाबले खेले हैं। इन मुकाबलों में न्यूजीलैंड का परचम भारत से मजबूत रहा और उन्होंने 7 में से 4 मुकाबले जीते। जबकि भारत की झोली में महज 3 जीत ही आ पाई।
टीम इंडिया के ओपनिंग आर्डर में होगी तब्दीलीटीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के चोटिल हो जाने के बाद टीम इंडिया को अपने बैटिंग क्रम में तब्दीली करनी पड़ेगी। अतिरिक्त ओपनर के तौर पर 15 सदस्यीय टीम में शामिल केएल राहुल को कप्तान कोहली ने पहले और दूसरे मुकाबले में नंबर की भूमिका दी और उन्होंने बखूबी निभाया भी। लेकिन धवन के चोटिल हो जाने के बाद रोहित शर्मा के साथ केएल राहुल पारी की शुरुआत करते हुए दिखाई देंगे और फिर टीम इंडिया के लिए नंबर चार की पोजिशन परेशानी का सबब बन सकती है।
शिखर धवन के चोटिल हो जाने के बाद विश्व कप के लिए भारतीय टीम के साथ ऋषभ पंत को जोड़ा गया है। हालांकि अभी यह कह पाना मुश्किल होगा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ पंत को टीम में जगह मिलती है या नहीं। क्योंकि जब वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम का चयन हुआ तो ऋषभ पंत की जगह पर टीम में दिनेश कार्तिक को जगह दी गई और यह कहा गया कि कार्तिक के पास अनुभव के साथ-साथ शाट्स भी हैं। अगर इन बातों पर गौर किया जाए तो यह कहा जा सकता है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ नंबर चार पर दिनेश कार्तिक बल्लेबाजी करते हुए दिखाई दे सकते हैं। भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, केएल राहुल, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), हार्दिक पंड्या, केदार जाधव, विजय शंकर, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, दिनेश कार्तिक, रवींद्र जडेजा, ऋषभ पंत।  न्यूजीलैंड: केन विलियमसन (कप्तान), मार्टिन गुप्टिल, मैट हेनरी, टॉम लैथम, कॉलिन मुनरो, जिमी नीशाम, हेनरी निकोल्स, मिशेल सेंटनर, ईश सोढ़ी, ट्रेंट बोल्ट, कॉलिन डि ग्रैंडहोमे, लॉकी फर्गुसन, टिम साउथी, रोस टेलर, टॉम ब्लंडेल (विकेटकीपर)। - अनुराग गुप्ता

Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.