newsdog Facebook

गर्भवती महिलाएं कैसे चंद्र ग्रहण के प्रभाव से रह सकती हैं सुरक्षित, क्यों सावधानी है जरूरी

Patrika 2019-07-12 18:22:29

सागर. 16 जुलाई और 17 जुलाई 2019 की मध्य रात्रि दिखने वाले चंद्र ग्रहण ( Chandra Grahan July 2019 ) को लेकर लोग अभी से सतर्क हो जाएं। चंद्र ग्रहण के प्रभाव ( Lunar eslipse effect ) से बचने के लिए वरिष्ठ जनों से सलाह ली जा सकती है। चंद्र ग्रहण अनिष्कारी प्रभाव वाली राशियों के साथ-साथ प्रसूताओं यानि गर्भ धारण किए महिला ( Lunar eclipse effect for pregnant women ) के लिए के काफी नुकसान दायक हो सकता है। गर्भवती महिलाएं चंद्र ग्रहण से कैसे बचें यहां जान लीजिए।

 

गर्भवती महिलाओं को चंद्र ग्रहण से कैसे दूर रखा जा सकता हैं, यह जानने के पहले बता दें कि चंद्र ग्रहण 16 जुलाई को शाम 4 बजे से ही सूतक काल शुरू हो जाएगा, जिससे मंदिरों के कपाट, पूजन, अर्चन बंद हो जाएगा। आचार्य पंडित रवि शास्त्री के अनुसार चंद्र ग्रहण 2019 का स्पर्श 16 जुलाई की रात्रि 1 बजकर 30 मिनट पर होगा। मध्य में ग्रहण 3 बजकर 2 मिनट पर देखा जा सकता है। मोक्ष रात्रि में 4 बजकर 32 मिनट पर होगा। जबकि चंद्र ग्रहण ग्रासमान 0.659 पर्वकाल 3 घंटा 2 मिनट रहेगा। इस तरह चंद्र ग्रहण 16 और 17 जुलाई को असर दिखाएगा।

चंद्र ग्रहण पर गर्भवती महिलाएं क्या करें और क्या न करें

 

1. चंद्र ग्रहण पर गर्भवती महिला को चाकू, कैंची या किसी भी धारदार चीज से कुछ काटना नहीं चाहिए। इससे बच्चे की सेहत पर असर पड़ता है। कभी-कभी इस वजह से बच्चे का शरीर पर कटने का निशान आ जाता है।


2. ऐसे में गर्भवती महिलाओं को सिलाई भी करना नहीं चाहिए। इससे गर्भ में पल रहा बच्चा शारीरीक रूप से पीडि़त हो सकता है।


3. किसी भी गर्भवती महिला को चंद्र ग्रहण के समय भोजन पकाना और खाना नहीं चाहिए।


4. किसी भी तरह ग्रहण की किरणें अपने गर्भ पर न पडऩे दें नहीं तो आपका गर्भ नष्ट हो सकता है।


5. चंद्र ग्रहण के समय किसी भी गर्भवती महिला को संजना और संवरना नहीं चाहिए।


6. चंद्र ग्रहण के समय किसी भी महिला को कोई भी घरेलू काम नहीं करना चाहिए।


7. किसी भी गर्भवती महिला को चंद्र ग्रहण को खुली आखों से नहीं देखना चाहिए नहीं तो इसका असर आपके होने वाले बच्चे पर पड़ सकता है।


8. चंद्र ग्रहण के समय जितना हो अपने ईष्ट का ध्यान करना चाहिए।


9. चंद्र ग्रहण के दौरान किसी भी गर्भवती महिला को सोना नहीं चाहिए।


10. चंद्र ग्रहण के खत्म होने पर गर्भवती महिला को एक बार स्नान अवश्य करना चाहिए।

 

चंद्र ग्रहण 2019 का सूतक काल समय

 

खंडग्रास चंद्र ग्रहण जुलाई 2019 का सूतक तीन पहर पहले यानि दिन में 4 बजकर 30 मिनट से लगेगा। आचार्य शास्त्री के अनुसार सूतक के समय से मोक्ष के समय तक शास्त्रीय मतानुसार मूर्ति स्पर्श, सोना और भोजन नहीं करना चाहिए। बालक, वृद्ध व रोगियों को एक ही प्रहर यानि रात में 10 बजकर 30 मिनट से ही मानना चाहिए। इस ग्रहण का फल उत्तराषाढ़ नक्षत्र धनु राशि वालों के लिए विशेष अनिष्टकारक रहेगा।