newsdog Facebook

चेहल्लुम : नई चूल के लिए गड्ढा खोदते ही आ गया पानी

Patrika 2019-10-10 17:35:36

रतलाम। जावरा के विश्व प्रसिद्ध हुसैन टैकरी शरीफ पर बुधवार को अधूरी व्यवस्थाओ के बीच चेहल्लुम का आगाज हुआ। प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा दिए गए निर्देशो ंका पालन स्थानीय प्रशासन के साथ ही हुसैन टैकरी प्रशासन द्वारा किया जा रहा है। भारी बारिश के बाद अब व्यवस्थां जुटाई जा रही है। रोजाना रोड़ पर बेरिकेट्स बनने लगे है, रोजाना रोड से चूल तक तथा चूल से टॉप शरीफ तक जायरीनों की निकासी के लिए मुरम का रोड बन गया है। नई व्यवस्थाओं के तहत तीन चूल का निर्माण भी जारी है। अतिवृष्टि के चलते चूल क्षेत्र से लेकर पड़ाव स्थल तक पानी भरा होने तथा किचड़ व्याप्त होने से इस बार व्यवस्था नहीं हो पा रही है। जिससे व्यवस्थाओं में परिवर्तन करते हुए पड़ाव स्थल के बजाय रोजाना रोड पर सड़क के दोनों ओर सीधे बेरिकेट्स बनाए जा रहे हैं। जिनमे से होकर चूल पर से निकलने वाले जायरीन सीधे चूल तक पहुचेंगे और चूल से निकलकर टॉप शरीफ के रोजे पर निकलेंगे और सीधे बामनखेड़ी रोड़ से बाहर हों सकते है या मेला क्षेत्र में पहुंच सकते हैं। इधर मेला क्षेत्र मेंं किचड़ होने से अब भी व्यवस्थाएं नहीं हो पाई है।
जिला प्रशासन के आदेश के बाद नई व्यवस्थाओं के तहत दो की जगह तीन चूल इस बार बनाई जा रही है, इसके लिए तीनों चूल की एंट्री व एक्जिट के लिए रैंप का काम भी जारी है, लेकिन रैम्प बनाने के लिए जैसे ही नीव खोदना प्रारंभ की तो एक फीट खुदान होते ही जमीन से पानी निकल आया और खोदा गया गढ्ढा पुन: भर गया। ऐसे में अब ठेकेदार के समक्ष रैम्प बनाना चुनौति बना हुआ है। इधर प्रशासन ने मुरम का रोड़ भी बनाना प्रारंभ कर दिया है।

एक को हटाने बनाई तीन दुकान

हुसैन टैकरी पर चेहल्लुम के आयोजन को लेकर जिला कलेक्टर व एसपी ने अवलोन के दौरान बड़े रोजे के बाहर बनी एक दुकान को हटाने के लिए कहा था, जिस पर हुसैन टैकरी प्रशासन ने एक दुकान को हटाने के लिए बड़े रोजे के दूसरे गेट के पास तीन नई दुकाने बना दी और कहा कि ये दुकान बनने के बाद इस दुकान को हटा देंगे, लेकिन वर्तमान में तीन नई दुकाने तो बनकर तैयार हो गई है। वहीं पुरानी दुकान भी अब तक यथावत है, उसे अब तक नहीं तोड़ा गया है। इधर बुधवार को हुसैन टैकरी पर चेहल्लुम शुुरू होने के साथ ही यहा स्थित होटलों व लॉजों की जांच भी प्रारंभ हो गई है। बुधवार की शाम को बीडी एंड डीएस स्कॉट ने होटलों में जो कमरे भर गए है उनकी जांच की।