newsdog Facebook

माघ मेले में परिवहन विभाग 15 सौ अतिरिक्त बसों का करेगा संचालन ,विशेष पर्व पर चलेंगी सटल बसें

Patrika 2019-12-02 19:26:16

प्रयागराज | संगम नगरी में आगामी माघ मेले को लेकर तैयारियां जोर शोर से शुरू हो चुकी है । ऐसे में परिवहन विभाग भी मेले में आने वाले श्रधालुओं के लिए सुलभ यात्रा कराने की दिशा में काम कर रहा है । 2019 के कुम्भ में पांच सौ से ज्यादा शटल बसों का वर्ल्ड रिकार्ड बना चुका यूपी परिवहन निगम अब मिनी कुम्भ की तर्ज पर आयोजित हो रहे माघ मेले की तैयारियों में जुट गया है। माघ मेले में परिवहन निगम दो हजार अतिरिक्त बसें चलाने की तैयारी कर रहा है। इसके साथ ही झूंसी और नैनी के लप्रोसी चौराहे पर दो अस्थायी बस अड्डे भी बनाने की भी तैयारी चल रही है।

इसे भी पढ़े- चिन्मयानंद से पांच करोड़ की रंगदारी मांगने वाली छात्रा की जमानत टली , अब इस दिन होगी सुनवाई

अतिरिक्त बसों का संचालन
माघ मेले में पड़ने वाले प्रमुख स्नान पर्वों मकर संक्रान्ति, मौनी अमावस्या और बसंत पंचमी के मौके पर रोडवेज 1500 बसें अतिरिक्त चलायेगा। जबकि अन्य स्नान पर्वों पर यात्रियों की संख्या को देखते हुए अलग.अलग रुटों पर बसों का संचालन किया जायेगा। यूपी परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक टी के एस विसेन के मुताबिक माघ मेले में आने वाले यात्रियों के लिए अस्थायी बस अड्डे पर शेल्टर और पीने के पानी का भी इंतजाम कराया जा रहा है। उन्होंने बताया की यात्रियों को बसों की सही सूचनायें मिल सकेंए इसके लिए पूछताछ काउन्टर भी खोला जायेगा। क्षेत्रीय प्रबंधन माघ मेले के दौरान परिवहन निगम अतिरिक्त कर्मियों की भी तैनाती करेगा। इसके साथ ही मेले के दौरान यात्रियों की भीड़ बढ़ने पर आस.पास के जिलों के लिए शटल बस सेवायें भी चलायी जायेंगी। हांलाकि कुम्भ की तर्ज पर श्रद्धालुओं को फ्री में संगम तक ले आने और ले जाने की व्यवस्था को लेकर स्थिति साफ नहीं हो पायी है। क्योंकि कुम्भ के दौरान का ही रोडवेज को चार करोड़ अभी शासन से नहीं मिला है।

कुंभ जैसी सुविधाएँ
गौरतलब है माघ मेले को योगी सरकार बीते कुंभ की तर्ज पर व्यवस्थित को सुसज्जित करने पर लगी हुई है। माघ मेले की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री द्वारा निर्देश जारी किए जा चुके हैं। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को कुंभ की तरह व्यवस्थाएं और सुविधाएं दिए जाने को लेकर मेले से जुड़े सभी विभागों को निर्देशित किया गया है। गौरतलब है कि बीते कुंभ मेले में एक साथ बसों का संचालन कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में परिवहन विभाग ने अपना नाम दर्ज कराया था।

विशेष स्नान पर्व
माघ मेले में पौष पूर्णिमा का पहला स्नान 10 जनवरी 2020 शुक्रवार को है, जिसमें 32 लाख संभावित श्रद्धालुओं की संख्या मानी जा रही है। मकर संक्रांति 15 जनवरी 2020 को दूसरा स्नान जिसमें 80 लाख श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। मौनी अमावस्या का तीसरा स्नान 24 जनवरी 2020 शुक्रवार 90 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के आने का अनुमान मेला प्रशासन को है। बसंत पंचमी का चौथा स्नान 30 जनवरी 2020 गुरुवार को होगा जिसमें 75 लाख श्रद्धालुओं के आने का अनुमान लगाया गया है।वही माघी पूर्णिमा का स्नान 9 फरवरी 2020 रविवार को जिसमें 70 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। महाशिवरात्रि का अंतिम दिनांक 21 फरवरी 2020 शुक्रवार को होगा जिसमें 15 लाख का श्रद्धालुओं के शामिल होने की संभावना है।