newsdog Facebook

वीथिका भवन की बदली सूरत

Patrika 2020-03-25 22:34:58

सीधी। खंडहर मे तब्दील होते वीथिका भवन को प्रशासन के द्वारा संभालना शुरू कर दिया गया है। पुराने वीथिका भवन को रंग रोदन कर नया स्वरूप देने का प्रयास किया जा रहा है। जिससे वीथिका भवन मे अब चमक लौट आई है। इसी वीथिका भवन में सीधी शहर वासियों को काफी हाउस की सौगात जल्द मिलने जा रही है। शहर को अप्रैल माह से इंडियन काफी हाउस की सौगात मिल जाने की उम्मीद की जा रही है। शहर के वीथिका भवन में काफी हाउस का संचालन किया जाएगा। इसके लिए कलेक्टर एवं इंडियन काफी हाउस के संचालक के बीज करार हो चुका हैं। काफी दिनों से नगर पालिका क्षेत्र में इंडियन काफी हाउस खोलनें की मांग की जाती रही है और जब यह मांग कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी से की गई तो उनके द्वारा न केवल प्रयास किया गया वल्कि काफी हाउस के संचालन को मूर्तरूप भी प्रदान कर दिया गया। बाहर से आने वाले पर्यटको एवं शहर की आम जनता के लिए अपने परिवार सहित नास्तें का लुत्फ उठाने का यह अच्छा एवं सुरक्षित स्थान माना जाएगा।
कलेक्ट्रेट के सामने स्थित वीथिका भवन में 10वीं सदी के पुरातत्व अवशेषों का संग्रहण हेतु बनाया गया था। वीथिका भवन में काफी पुरातत्व के अवशेष थें किंतु रख रखाव के अभाव में सब नष्ट हो गए और धीरे-धीरे वीथिका भवन का अस्तित्व ही समाप्त हो गया था। अब वह आंदोलन स्थल बन कर रह गया था। जबकि शहर के मुख्य स्थान और रोड के किनारे स्थित है और उसमें काफी खाली भूमि भी हैं। उक्त स्थान को कलेक्टर के द्वारा वीथिका भवन एवं खाली भूमि का सही उपयोग करते हुए इंडियन काफी हाउस के संचालन के इस निर्णय से नगर वासियों में काफी हर्ष दिखाई दे रहा हैं। वीथिका भवन में काफी हाउस के संचालक से जहां शहर का एक मुख्य स्थान का उपयोग आम जनता के लिए होने लगेगा वहीं दूसरी ओर उक्त भवन को सुसज्जित बना कर, पिकनिक स्थान के लिए भी विकसित किया जाएगा। वीथिका भवन से जिला पंचायत, कलेक्ट्रेट, जिला न्यायालय काफी नजदीक है और यहां प्रतिदिन हजारों ग्रामीण जन अपनी समस्या को लेकर आते है और काफी हाउस के संचालन से इन्हें भी वेहतर चाय-नास्ते की सुविधा मिलने लगेगी और आफिस के अधिकारी कर्मचारी भी दोपहर का भोजन एवं नास्ता कर सकेगें।
5 लाख के बजट से किया जा रहा जीर्णोद्धार-
वीथिका भवन के सौर्दयीकरण हेतु कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी के द्वारा 5 लाख का बजट स्वीकृत किया गया हैं। जिससे वीथिका भवन का रंग-रोदन एवं मरम्मतीकरण का कार्य किया जा रहा है। वीथिका भवन में खाली पड़ी भूमि में हरे-भरे वृक्ष लगाने के साथ आम जनता के लिए बैठने के लिए कुर्सियों भी लगाने का कार्य प्ररंभ कर दिया गया है। कलेक्ट्रेट, जिला पंचायत, जिला न्यायालय में आने वाले ग्रामीणजनों को बैठने, आराम करने एवं समय व्यतीत करने के लिए सुविधा उपलब्ध कराने की भी व्यवस्था की जा रही है। मुख्य मार्ग के किनारे वीथिका भवन होने के कारण बाहर की दीवालों को आकर्षित बनाया जा रहा है, जिससे लोग बाहर से ही देख कर प्रभावित हों।