newsdog Facebook

कलेक्टर ने कोराना प्रभावी ग्राम करमोता में लगाई छुट्टी पर गए अधिकारी की ड्यूटी

Patrika 2020-05-23 06:09:03

राजनांदगांव / मोहला. मोहला क्षेत्र के करमोता गांव में चार पॉजीटिव कोरोना के मरीज मिलने के बाद अधिकारियों की टीम गठित की गई थी लेकिन अधिकारियों की टीम गठित करने में राजनांदगांव कलेक्टर ने बहुत बड़ी गलती कर दी। 19 मई को राजनांदगांव कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य के द्वारा एक आदेश क्रमांक 2020/21 जारी करते हुए मोहला ब्लॉक के पांच अधिकारियों की एक टीम बनाकर ड्यूटी लगाई है कि मोहला जनपद पंचायत सीईओ चुरेंद्र को प्रवेश एवं निकास सहित क्षेत्र की सैनिटाइजिंग व्यवस्था एवं आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रभारी बनाया गया है। जबकि जनपद पंचायत से मिली जानकारी के अनुसार 19 तारीख के पूर्व ही जनपद पंचायत सीईओ छुट्टी पर है। जब कोई अधिकारी छुट्टी पर है तो अधिकारी को विशेष कार्य का प्रभारी कैसे बनाया जा सकता है।

करमोता सहित अन्य गांव के लोग मोहला में किसी न किसी काम से आते हैं
इस विषम परिस्थिति में भी बड़े-बड़े अधिकारी छुट्टी पर रहेंगे तो छोटे कर्मचारियों का क्या होगा और निर्णय लेने का अधिकार किन कर्मचारियों पर होगा। स्वास्थ्य रास्ते पर नहीं है, किसी भी प्रकार का बैरी गेट जनपद पंचायत सीईओ को सैनिटाइजिंग एवं आने जाने वाले लोगों की जांच के लिए प्रभारी बनाया गया है लेकिन प्रतिदिन करमोता गांव से लगे हुए गांव के लोग मोहला में किसी न किसी काम से आते हैं। प्रतिदिन कार्य करने वाले मजदूर भी मोहला में कार्य कर रहे हैं। सभी लोगों की जांच करना एवं संक्रमित क्षेत्र से 3 किलोमीटर तक की सभी क्षेत्रों को के आवागमन को पूर्ण रूप से प्रतिबंध करने के लिए कहा गया था लेकिन अधिकारियों की गलती का खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ सकता है। लगातार संक्रमित क्षेत्र के व्यक्ति इधर-उधर घूमते हुए नजर आ रहे हैं। इस बात की चर्चा लगातार आम नागरिकों में चल रही है।

ग्रामीण हुए परेशान
मोहला क्षेत्र के करमोता गांव में 4 कोरोना मरीज मिलने के बाद केवल 3 किलोमीटर क्षेत्र को ही संक्रमित क्षेत्र मानकर बंद किया गया है। मिली जानकारी के अनुसार ग्रामीण बता रहे हैं कि लगातार उनसे मुलाकात अन्य ग्रामीण व सचिव, सरपंच करते रहे हैं। प्रत्येक दिन उनका निरीक्षण स्वास्थ्य विभाग के द्वारा नहीं किया जा रहा था जिससे सरपंच, सचिव में भी कोरोना फैलने का डर बना हुआ है। सरपंच, सचिव से भी लोग अब डरने लगे हैं।

तीन दिन की छुट्टी पर है अधिकारी
सीईओ जपं मोहला, जीएल चुरेंद्र ने कहा कि मंै तीन दिन के लिए छुट्टी पर था जिसकी जानकारी मैंने लिखित रूप से दी है।