newsdog Facebook

Bihar Assembly Elections 2020: रिजवान बोले- इमामगंज का अल्पसंख्यक समाज पहले था बेबस, नीतीश के निश्चय ने बदली बयार

Haribhoomi 2020-10-16 13:15:27
X

बिहार विधानसभा चुनाव 2020: गया के इमामगंज क्षेत्र में शुक्रवार को जदयू द्वारा जनसभा का आयोजन किया गया। जिसको थोड़ी देर में जदयू अध्यक्ष एवं सीएम नीतीश कुमार भी संबोधित करेंगे। इससे पहले जदयू नेता रिजवान, अब्दुल बारी और कौशलेंद्र प्रसाद ने भी जनसभा को संबोधित किया। अपने संबोधन के दौरान रिजवान ने कहा कि नीतीश कुमार के अच्छे कार्यों की खुशबू समस्त दुनिया में फैल रही है। उन्होंने कहा कि आज लोग नीतीश कुमार का नाम इज्जत व सम्मान से लेते हैं। उन्होंने कहा कि पहले इमामगंज का अल्पसंख्यक समाज बेबस था। इमामगंज की धरती खून से सनी थी। लेकिन आज इस इमामगंज में नीतीश कुमार के निश्चयों के बदौलत विकास की बयार बह रही है।



.@NitishKumar जी के अच्छे कामों की खुश्बू समस्त दुनिया में फैली है, लोग आपका नाम इज्जत और सम्मान से लेते हैं। पहले इमामगंज का अल्पसंख्यक समाज बेबस था यहां की धरती खून से सनी थी लेकिन आज इस इमामगंज में नीतीश जी के निश्चयों के बदौलत विकास की बयार बह रही है।

- श्री रिजवान जी

— Janata Dal (United) (@Jduonline) October 16, 2020

जदयू नेता रिजवान ने कहा कि पहले इमामगंज क्षेत्र में ना रोड थी, ना बिजली थी, ना कानून था। उन्होंने कहा कि आज इमामगंज क्षेत्र में हर सुख सुविधा मौजूद है। यह सब जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार की मेहनत का ही नतीजा है।

अल्पसंख्यक समुदाय का हर तरह से किया विकास: अब्दुल बारी

जदयू नेता अब्दुल बारी ने कहा कि मुसलमान भाइयों के लिए नीतीश कुमार ने विभिन्न कार्य किये हैं। मदरसों की बहाली से लेकर कब्रिस्तानों के घेराव तक किया है। उन्होंने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार के राजद के दौरान अल्पसंख्यक समुदाय के विकास के लिए हर तरह से काम हुआ है।

एक घाट पर साथ पानी पी रहे बाघ व बकरी: कौशलेंद्र प्रसाद

जदयू नेता कौशलेंद्र प्रसाद ने भी अपने संबोधन के दौरान नीतीश कुमार के कार्यों की सराहना की। कौशलेंद्र प्रसाद ने कहा कि शांति की धारा बहती है तो विकास निश्चित है। उन्होंने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार के आने के बाद शांति व अहिंसा की बहाली हुई है। कौशलेंद्र प्रसाद ने कहा कि अब इमामगंज क्षेत्र में बाघ व बकरी एक ही साथ पानी पी रहे हैं। यह सब नीतीश कुमार के विकास के बदौलत संभव हुआ है।