newsdog Facebook

इस कंपनी का दावा, बनाया ऐसा माउथवाश जिससे कुल्ला करने पर नष्ट हो जाएंगे 99.99 फीसदी कोरोना वायरस

Catch Hindi 2020-11-21 18:42:00

चीन के वुहान से फैले कोरोना वायरस के कारण विश्व में साढ़े पांच करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 12 लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित होने के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं. भारत समेत पूरी दुनिया में कोरोना एक बार फिर तेजी से अपने पैर पसार रहा है. भारत के कई राज्यों में इस वायरस के कारण एक बार फिर लॉकडाउन लगाया जा रहा है. वैज्ञानिकों का मानना है कि कोरोना वायरस की दूसरी और तीसरी लहर काफी खतरनाक होगी. वहीं इस बीच एफएमसीजी कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर ने यह दावा किया है कि उसके माउथवॉश से कुल्ला करने पर करीब 99.9 फीसदी कोरोना वायरस खत्म हो जाता है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यूनिलीवर ने शनिवार को दावा किया कि उसका माउथवॉश लार में मौजूद 99.9 प्रतिशत कोरोनावायरस को नष्ट कर सकता है. कंपनी ने कहा कि इसके माउथवॉश में मौजूद एक सीपीसी तकनीक (सेटिलपाइरिडियम क्लोराइड) 30 सेकंड के लिए मुंह में पानी डालने के बाद COVID -19 वायरस को मारने में सक्षम थी.


एफएमसीजी प्रमुख ने कहा,"प्रारंभिक लैब परीक्षण के परिणाम बताते हैं कि सीपीसी प्रौद्योगिकी वाले माउथवॉश 30 सेकंड तक कुल्ला करने के बाद SARS-CoV-2 को 99.9 प्रतिशत को कम करते हैं. कंपनी ने बताया कि वो अगले महीने अपना माउथवॉश भारत में लाएगी.

यूनिलीवर की भारतीय शाखा, हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (HUL) अगले महीने पेप्सोडेंट जर्मिकेक माउथ रिंस लिक्विड में नई तकनीक लॉन्च करेगी.

यूनिलीवर ओरल केयर रिसर्च एंड डेवलपमेंट हेड ग्लिन रॉबर्ट्स ने कहा, "जबकि हम स्पष्ट हैं कि यह कोरोनावायरस के संचरण को रोकने का कोई इलाज या सिद्ध तरीका नहीं है, हमारे परिणाम आशाजनक हैं." उन्होंने कहा, "महामारी के प्रकोप को देखते हुए कंपनी को लगता है कि प्रयोगशाला में मिले परिणाम को सार्वजनिक साझा किया जाना चाहिये."

यूनिलीवर ने बताया कि सीपीसी तकनीक वाले उसके माउथवॉश के लिए परीक्षण एक स्वतंत्र और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त परीक्षण सुविधा, माइक्रोबैक प्रयोगशालाओं द्वारा आयोजित किया गया था.