newsdog Facebook

प्यार में हारीं मधुबाला को दिल भी दे बैठा था धोखा, 36 की उम्र में कहा दुनिया को अलविदा

News Track Hindi 2021-02-23 01:00:00

प्यार के महीने फरवरी में जन्म लेने वाली मधुबाला का निधन भी फरवरी के ही महीने में हुआ था। उन्होंने 23 फरवरी 1969, में दुनिया को अलविदा कहा था। आज मधुबाला इस दुनिया में नहीं है लेकिन लोग आज भी उनकी फिल्मों में उन्हें देखकर उनके दीवाने हो जाते है। मधुबाला का जन्म 14 फरवरी 1933 को दिल्ली में हुआ था और उनका असली नाम बेगम मुमताज जहां देहलवी था। वह कुल 11 भाई बहनों में शामिल थीं और 5वें नंबर पर थीं। मधुबाला बचपन से ही खूबसूरत थी और इसी वजह से 9 साल की उम्र में मधुबाला को फिल्म 'बसंत' में नायिका की बेटी की भूमिका मिल गई थी। इस फिल्म के बाद मधुबाला ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और वह आगे बढ़ती गईं।

वैसे बहुत कम लोग जानते है कि मधुबाला के दिल में एक छेद था और इस बात का पता खुद मधुबाला को 1950 के दशक के मध्य में मिला था। यह वह दौर था जब फिल्म 'मुगल ए आजम' की शूटिंग हो रही थी। उस समय में मधुबाला ने इस गंभीर बीमारी को गंभीरता से नहीं लिया और ऐसे में धीरे धीरे उनकी बिमारी बड़ी हो गई। उस दौर में मधुबाला को प्रेम नाथ से लेकर दिलीप कुमार और किशोर कुमार तक, से मोहब्बत हुई थी लेकिन उन्हें मोहब्बत में निराशा ही हाथ लगी। वहीं उसी दौर में वह अपने दिल से भी धोखा खा बैठीं। जब मधुबाला को अपनी बीमारी के बारे में पता चला उस समय वह किशोर कुमार के साथ थीं। कहा जाता है कि ऐसे वक्त में भी पति किशोर कुमार ने उन्हें अपने साथ नहीं रखा और अलग रहने के लिए भेज दिया था।

उस दौर में किशोर कुमार, मधुबाला का हालचाल भी दो- चार महीनों में एक बार लिया करते थे। अपने बुरे समय में मधुबाला अकेली पड़ गईं और वह मानसिक रूप से भी टूट गईं। कहा जाता है 23 फरवरी 1969 को 36 साल की उम्र में ही मधुबाला ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। फिल्मों के बारे में बात करें तो साल 1942 से 1962 के बीच मधुबाला की सिर्फ 20 फिल्में सुपर हिट साबित हुईं, जबकि बाकी या तो फ्लॉप रहीं या फिर औसत। उनकी हिट फिल्मों में मुगल ए आजम, तराना, अमर, संगदिल, चलती का नाम गाड़ी, महलों के ख्वाब, झुमरू, हाफ टिकट, हावड़ा ब्रिज, बरसात की रात, गेट वे ऑफ़ इंडिया, मिस्टर या मिसेज, शीरी फरिहाद, यहूदी की लड़की, काला पानी, जाली नोट, पासपोर्ट, कल हमारा है, इंसान जाग उठा, दो उस्ताद और फाल्गुन मुख्य रूप से शामिल हैं।