newsdog Facebook

Himachal: क्या जरूरी होगी बाहरी राज्यों से आने वालों के लिए कोरोना रिपोर्ट- जानिए

Himachal Abhi Abhi 2021-04-06 00:00:00
Home  »  HP-1

शिमला   »

   Himachal: क्या जरूरी होगी बाहरी राज्यों से आने वालों के लिए कोरोना रिपोर्ट- जानिए



स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल बोले- सुझाव के तौर पर किया जा सकता है ऐसा


शिमला। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल (Health Minister Dr Rajiv Saizal) ने कहा कि हिमाचल में वर्तमान में कोरोना (Corona) मामले तेज गति से बढ़ रहे हैं। वर्तमान में 3,800 से अधिक एक्टिव केस (Active Case) हैं, जोकि चिंता का विषय है। यह उचित समय है जब हमें सावधानियां बरतकर इस महामारी से लड़ना होगा। यहां मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में बाहरी राज्यों से आने वालों के लिए कोरोना रिपोर्ट (Corona Report) की बात की गई है। इसे सख्ती से नहीं किया गया है, यह एक निर्देश है। इसमें सुझाव ज्यादा है, नियम के तौर पर लागू नहीं किया गया है। राज्य लोगों को एडवाइज कर रहे हैं कि हो सके तो कोरोना रिपोर्ट लेकर आए, ताकि कोई दिक्कत ना हो। इस प्रकार का हिमाचल में भी सोच सकते हैं। पर ऐसा नहीं कि सख्ती की जाएगी या बॉर्डर सील किए जाएंगे।


उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग (Health Department) के अधिकारियों के साथ कोरोना को लेकर फीडबैक ली गई है। अब सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) भी बैठक में फीडबैक लेंगे। बैठक में कुछ निर्णय लिए जा सकते हैं। इसके अलावा कल सभी जिलों के डीसी (DC), एसपी (SP) और सीएमओ (CMO) के साथ बैठक होगी। बैठक में जरूरी चर्चा के साथ दिशा निर्देश जारी किए जाएंगे। उन्होंने माना कि कुछ जिलों को छोड़कर बाकी जिलों में कंटेनमेंट जोन बनाने में ढील बरती जा रही है। कल जिला के अधिकारियों के साथ इस बात पर भी चर्चा होगी और इसे सख्ती से लागू करने को कहा जाएगा।

उन्होंने कहा कि लोगों की ढील की वजह से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। बीजेपी ने चुनाव में कोविड (Covid) नियमों की पालना की है। बीते साल की तरह भयावह स्थिति ना हो, इसलिए हरेक व्यक्ति सावधानी बरते। उन्होंने कहा कि सोलन में यूके स्ट्रेन का पहला मामला सामने आया है, लेकिन चिंता जैसी बात नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीन की दो डोज के बाद भी अगर कोई कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है तो यह हैरानी का विषय नहीं है। क्योंकि कोरोना वैक्सीन की एफेसेंसी 70 से 75 फीसदी है। दो डोज के बाद भी मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग आदि नियमों का कड़ाई से पालन करना होगा।