newsdog Facebook

Breaking News :आज से नाइट कर्फ्यू, रात 10 से सुबह 5 बजे तक रहेगी आवाजाही पर रोक

News India Live 2021-04-06 15:38:44

नई दिल्‍ली। राजधानी दिल्‍ली में कोरोना संक्रमण की वजह से फैल रहा संक्रमण अब बेकाबू हो रहा है। इसी वजह से दिल्‍ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने सख्‍ती से दिशा निर्देशों का पालन कराना शुरू कर दिया है। दिल्‍ली सरकार (Delhi Government) ने देश की राजधानी में तत्‍काल प्रभाव से रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक के लिए नाइट कर्फ्यू (Night curfew) लगाने की घोषणा कर दी है। यह नाइट कर्फ्यू 30 अप्रैल तक प्रभावी रहेगा। इस दौरान किसी भी प्रकार की गतिविधि पर रोक रहेगी। इसके साथ ही आवाजाही पर भी रोक रहेगी।

 

सरकार की तरफ से जारी नाइट कर्फ्यू की गाइडलाइन के अनुसार, इस दौरान ट्रैफिक मूवमेंट पर किसी प्रकार की कोई रोक नहीं होगी, जो लोग वैक्सीन लगवाने जाना चाहते हैं, उनको छूट मिलेगी। मगर ई-पास लेना होगा। राशन, किराना, फल सब्जी, दूध, दवा से जुड़े दुकानदारों को ई-पास के माध्यम से ही मूवमेंट की छूट रहेगी।

साथ ही प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को भी ई-पास के माध्यम से ही मूवमेंट की अनुमति होगी। आईडी कार्ड दिखाने पर निजी डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ को भी छूट रहेगी। वैद्य टिकट दिखाने पर एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और बस अड्डे आने- जाने वाले यात्रियों को छूट मिलेगी। गर्भवती महिलाओं और इलाज के लिए जाने वाले रोगियों को नाइट कर्फ्यू में राहत दी जाएगी।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट जैसे बस, दिल्ली मेट्रो, ऑटो, टैक्सी आदि को निश्चित वक्त के बाद उन्हीं लोगों को लाने और ले जाने की अनुमति होगी, जिनको नाइट कर्फ्यू के दौरान छूट दी गई है। जरूरी सेवाओं में लगे सभी विभागों के लोगों को छूट मिलेगी। दिल्ली सरकार के आदेश में कहा गया कि ट्रैफिक मूवमेंट को लेकर कोई प्रतिबन्ध नहीं लगाया जायेगा।

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों ने भारत में रिकॉर्ड तोड़ रहा है। अब तक एक दिन में एक लाख से अधिक केस सामने आ रहे हैं। इससे केंद्र से लेकर राज्यों तक सनसनी फ़ैल गई है। स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन आज 11 राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों से बैठक करेंगे। पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार को सभी मुख्यमंत्रियों से बात करेंगे। केंद्र ने 3 राज्यों में विशेषज्ञों की टीमें भी भेजी हैं।

कोरोना वायरस से हालात फिर ख़राब हो गए हैं। चारों ओर खतरा बढ़ गया है। कोरोना वायरस ने ऐसी रफ्तार पकड़ी है, कि सात-आठ महीने का रिकॉर्ड टूट चुका है। पहली बार भारत में अब एक दिन में एक लाख से अधिक मरीज मिल रहे हैं। महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पंजाब में हालात काफी ख़राब हो गए हैं। इन तीन राज्यों में केंद्र ने विशेषज्ञों की 50 टीमें भेजी गई हैं। इनमें 30 टीमें महाराष्ट्र में, 11 छत्तीसगढ़ में, 9 टीमें पंजाब पहुंची हैं।