newsdog Facebook

WB Election: छिटपुट हिंसा के बीच तीसरे चरण की भी वोटिंग खत्म

Kolkata 24x7-Hindi 2021-04-06 00:00:00

कोलकाताः बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 के तीसरे चरण में आज 31 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई है। तीसरे चरण में कुल 205 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे। मतदान को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। हालांकि फिर भी कहीं-कहीं हिंसा की घटनाएं सामने आईं। चुनाव आयोग के मुताबिक शाम के 6 बजे तक 77.68 फीसदी मतदान हुआ।

चुनाव आयोग के मुताबिक हुगली में सबसे अधिक 79.29 फीसदी, हावड़ा में 77.92 और दक्षिण 24 परगना में 79.74 फीसदी वोटिंग हुई है।

तीसरे चरण में हावड़ा के उलूबेड़िया उत्तर में 72.59 फीसदी, उलूबेड़िया दक्षिण 81.00 फीसदी, श्यामपुर में 80.00 फीसदी, बगनान में 80.26 फीसदी, आमता में 73.27 फीसदी, उदयनारायणपुर में 80.25 फीसदी और जगतबल्लभपुर में 78.13 फीसदी वोटिंग होगी हुई।

हुगली के जंगीपाड़ा में 80.22 फीसदी, हरिपाल में 75.38 फीसदी, धनखाली में 79.21 फीसदी, तारकेश्वर में 78.37 फीसदी, आरामबाग में 79.00 फीसदी, गोघाटा 84.71 फीसदी और खानाकुल में 76.00 फीसदी वोटिंग हुई।

वहीं दक्षिण 24 परगना के बासंती में 80.26 फीसदी, कुलतलि में 76.24 फीसदी, कुलपी में 76.41 फीसदी, रायदिघी में 77.63 फीसदी, मंदिरबाजार में 74.87 फीसदी, जयगनर में 76.30 फीसदी, बारुईपुर पूर्व में 73.20 फीसदी, कैनिंग पश्चिम में 80 फीसदी, कैनिंग पूर्व में 79.86 फीसदी, बारुईपुर पश्चिम में 75.60 फीसदी, मगराहाट पूर्व में 74.21 फीसदी, मगराहाट पश्चिम में 74.84 फीसदी, डायमंड हार्बर में 75.17 फीसदी, फलता में 75.21 फीसदी, सातगछिया में 78.00 फीसदी और विष्णुपुर में 79.00 फीसदी वोटिंग हुई।

तीसरे चरण में कई जगह से हिंसा की खबरें सामने आई। दक्षिण 24 परगना के डायमंड हार्बर के बीजेपी उम्मीदवार दीपक हल्दार ने दावा किया डगिरा बादुलडांगा में बूथ नंबर 180 और 143 पर टीएमसी के गुंडे लोगों को वोट नहीं देने दिया। उन्होंने चुनाव आयोग से उन्होंने इसकी शिकायत की।

हावड़ा के अमता विधानसभा क्षेत्र के दक्षिण भटोरा में बूथ संख्या 90 पर एक बीजेपी कार्यकर्ता के घर पर हमला और तोड़फोड़ करने का आरोप लगा। आरोप टीएमसी पर लगा है। वहीं आरामबाग से टीएमसी उम्मीदवार सुजाता मंडल ने आरोप लगाया है कि अरंडी- I में अल्पसंख्यक मतदाता ममता बनर्जी को पसंद करते हैं। इसीलिए कल रात को बीजेपी समर्थकों ने महिला मतदाताओं को धमकाया और प्रताड़ित किया।