newsdog Facebook

चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, कोलकाता के 8 रिटर्निंग ऑफिसर हटाए गए

Kolkata 24x7-Hindi 2021-04-06 00:00:00

कोलकाताः विधानसभा चुनाव के बीच एक बार फिर से प्रदेश चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। मंगलवार को जारी तीसरे चरण के चुनाव के बीच ही चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। कोलकाता के आठ रिटर्निंग ऑफिसरों को हटा दिया गया है। चुनाव आयोग के मुताबिक कोई भी लगातार तीन वर्षों तक एक ही पद पर नहीं बने रह सकता है।

इस स्थिति में उन अधिकारियों को हटाने का नियम है। लेकिन अभी तक कोलकाता में इस नियम को लागू नहीं किया गया था। हालांकि इस बार वह नियम लागू किया गया है। इसलिए उन आठ रिटर्निंग ऑफिसरों को हटा दिया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आठों अधिकारियों पर कई बार पक्षपात का आरोप लगाया गया था।

उन्हें अलग-अलग समय पर कई शिकायतें भी मिलीं थी। लेकिन किसी भी समय उन्होंने उन आरोपों पर ध्यान नहीं दिया। फिर खबर चुनाव आयोग तक पहुंची। खबर मिलते ही आयोग के अधिकारियों ने इस विषय को देखा। इन आठों अधिकारियों को शो-कॉज किया गया था। इसके बाद ही चुनाव आयोग ने उन्हें हटाने का फैसला किया। इन आठों की जगह नया रिटर्निंग ऑफिसरों को नियुक्त किया गया है।

चुनाव आयोग के अनुसार कोलकाता में कुल आठ विधानसभा क्षेत्रों के रिटर्निंग अधिकारियों को हटा दिया गया है। जिनमें कोलकाता पोर्ट, जोड़ासांको, भवानीपुर, इंटाली, चौरंगी, बेलियाघाटा, श्यामपुकुर, काशीपुर और बेलगछिया। अर्थात, चुनाव आयोग ने कोलकाता की 11 सीटों में से आठ सीटों के रिटर्निंग अधिकारी को हटा दिया। इस बार इन केंद्रों में एक से अधिक हैवीवेट उम्मीदवार खड़े हैं।

उनमें से, फिरहाद हकीम कोलकाता पोर्ट से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। हालांकि, उनके क्षेत्र के रिटर्निंग ऑफिसर को भी हटा दिया गया है। हालांकि, यह पहली बार नहीं है कि चुनाव आयोग ने वोट की घोषणा के बाद से कई मामलों में इस तरह के बदलाव किए हैं। यहां तक ​​कि राज्य पुलिस के डीजी और एडीजी कानून-व्यवस्था को भी हटा दिया गया है।